सड़कें अटी कांग्रेस और जद (ध) के झंडों से

दिखे बसपा सुप्रीमो मायावती के भी पोस्टर
कांग्रेस की तो कभी जद (ध) की जयकारे
बरसात से बचने का प्रयास करते रहे दर्शक

By: Ram Naresh Gautam

Published: 24 May 2018, 05:57 PM IST

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बुधवार को विधानसभा के बाहर हुए शपथ ग्रहण समारोह को देखने के लिए दर्शकों का सैलाब उमड़ पड़ा। महारानी कॉलेज से विधानसौधा तक लोग व कार्यकर्ता समूह के रूप में झंडे बैनर लेकर ढोल-नगाड़ों की धुनों पर नाचते गाते विधानसौधा पहुंचे। पुलिस ने बेरिकेड लगाकर केआर सर्कल पर ही वाहनों के आगे जाने पर रोक लगा दी थी। केवल पैदल ही विधानसौधा की ओर जा सकते थे। दोपहर दो बजे से चार बजे तक दो-तीन बार बरसात के दौर चले लेकिन कार्यकर्ता टस से मस नहीं हुए।

यहां तक की महिलाएं भी भीगते हुए दर्शक दीर्घा में मौजूद रहीं। शपथ ग्रहण समारोह में व्यवस्था बनाए रखने के लिए दो हजार से अधिक पुलिस के अधिकारी व जवान तैनात किए थे। इनमें एक पुलिस आयुक्त, दो अतिरिक्त आयुक्त, आठ पुलिस उपायुक्त, 28 सहायक पुलिस आयुक्त, 40 पुलिस निरीक्षक व दो हजार जवान चप्पे पर नजर रखे हुए थे। गतिविधि पर नजर रखने के लिए पुलिस ने पल-पल की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई। पुलिस की ओर से कनार्टक रिजर्व पुलिस बल की आठ व रेपिड एक्शन फोस की छह कंपनियां तैनात की थी। इसके अलावा गुप्तचर शाखा के अधिकारी व जवान भी भीड़ में खड़े रहकर हर गतिविधि पर नजर रखे हुए थे।


बिना पास वालों के लिए दूर लगी कुर्सियां
जिन लोगों को पास जारी नहीं किए गए थे। उनके बैठने के लिए विधानसौधा के सामने सड़क के दोनों ओर कुर्सियां लगाई गई थीं। लेकिन लोग कुर्सियों पर बैठकर शपथ का आनन्द लेने के बजाय कुर्सियों पर चढ़कर अपने नेता को देखने का प्रयास कर रहे थे।

 

नहीं हटा एलईडी का कवर
विधानसौधा के बाहर खड़े व बैठे दर्शकों को शपथ का लाइव प्रसारण दिखाने के उद्देश्य से दर्जन भर एलईडी लगाए गए थे। लेकिन दोपहर दो बजे से चार बजे तक तीन बार रिमझिम होने के कारण इन एलईडी के कवर नहीं हटाए जा सके।


जवानों के लिए वरदान बना एलईडी कवर
विधानसौधा के बाहर सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस कर्मी तेज बरसात आने पर एलईडी के कवर को खोलकर उसके नीचे छिप गए।

 

पास वालों को भी जाने से रोका
विधानसौधा परिसर पूरा भर जाने पर पुलिस ने अनेक पासधारियों को भी बाहर रोक लिया। इसके चलते अनेक पास धारी पुलिस ने उलझते दिखाई दिए।


बसों का मार्ग बदला
बीएमटीसी ने शपथ ग्रहण समारोह के चलते विधानसौधा, की ओर जाने वाली बसों के निर्धारित मार्ग में परिवर्तन किया। इससे लोगों को खासी असुविधा हुई।


शपथ ग्रहण के बाद बसों में भीड़
शपथ ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद लोग अपने घरों की ओर रवाना हो गए। इसके चलते हरेक बस में क्षमता से अधिक सवारियां दिखाई दीं। लोगों को बस पकडऩे के लिए भी दो किलोमीटर की दौड़ लगानी पड़ी।

 

बूंदों से बचने सिर पर ओढ़ी कुर्सी
शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे लोगों को बरसात के दौरान बचने के लिए इधर-उधर छिपना पड़ा। कई लोग तो हाई कोर्ट परिसर में तो कुछ बीएमटीसी के बस स्टॉप के छज्जे के नीचे छिपे। शाम करीब चार बजे दोबारा बरसात आने पर कार्यकर्ता भीड़ अधिक होने के कारण इधर-उधर नहीं जा सके। इस कारण कार्यकर्ताओं ने बैठने के लिए रखी कुर्सियां सिर पर रखकर बचाव किया। बरसात से बचने के लिए अनेक लोग टेबल के नीचे छिप गए। बरसात बंद होने के बाद ये लोग बाहर निकले।

 

'जयप्रकाश नारायण' भवन की रौनक बढ़ी
बेंगलूरु. बुधवार को शहर में स्थित प्रदेश जनता दल (ध) का कार्यालय जयप्रकाश नारायण (जेपी) भवन को विशेष रूप से सजाया गया था। कार्यालय के सामने पार्टी के प्रदेश इकाई के अध्यक्ष एच.डी. कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण के अवसर पर अभिनदंन के लिए फूलों से वंदनवार सजाया गया। सत्ता में आने के बाद अब इस भवन में नेता तथा कार्यकर्ताओं की चहल-पहल बढ़ गई है। दो सप्ताह पहले इस कार्यालय के परिसर में इक्का-दुक्का कारें दिखती थीं, अब यहां पर कार की पार्किंग के लिए जगह नहीं मिल रही है। सत्ता के कारण इस भवन की रौनक बढ़ गई है।

Show More
Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned