सद् व शुभ कार्य ही जीवन को सार्थक बनाते हैं- साध्वी डॉ.कुमुदलता

1 दिसम्बर को साध्वी वृंद का विदाई समारोह राजाजीनगर स्थानक में

By: Yogesh Sharma

Published: 27 Nov 2019, 04:03 PM IST

बेंगलूरु. फ्रेजरटाउन स्थानक में विराजित अनुष्ठान आराधिका साध्वी डॉ.कुमुदलता ने धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह मनुष्य जन्म दुर्लभ है। 84 लाख जीव योनियों में भटकने के बाद यह मानव जन्म हमें मिला है। हम धर्म का आचरण कर इस मनुष्य जन्म को सार्थक करें। सद् व शुभ कार्य ही हमारे जीवन को सार्थक बनाते हैं। यह दुर्लभ जीवन पुन: मिलने वाला नहीं है। जीवन का उपयोग समय के सदुपयोग पर निर्भर करता है। इसीलिए हमें समय मात्र का भी प्रमाद ना करते हुए अपने जीवन को धर्म आराधना व सद्कार्यों में लगाना चाहिए। ऐसे मानव जन्म को पाकर यदि हम कल्याण चाहते हैं तो हमें जीवन का सदुपयोग कर धर्म आराधना करनी चाहिए। धर्म का आचरण करने की कोई उम्र नहीं होती है। आइए हम अपने जीवन में धर्म के प्रति आस्था का दीप जलाएं और अपनी श्रद्धा को मजबूत करें। मुक्ति की साधना का लक्ष्य न हो तो इस भव की कोई महत्ता,कोई कीमत नहीं है। धर्म आराधना बिना कल्याण संभव नहीं है और यह मानव जन्म सार्थक नहीं है। प्रारम्भ में साध्वी महाप्रज्ञा ने "नम्मोत्थुणं सम्मणस भगवहो महावीरस्स" जाप अनुष्ठान का सस्वर उच्चारण कराया।
साध्वी महाप्रज्ञा ने सुमधुर आवाज में भजन की प्रस्तुति दी। इस आयोजन के लाभार्थी केसरीमल, सुजानमल व कल्याणसिंह बुरड़ परिवार थे। इस अवसर पर जैन कॉन्फ्रेंस कर्नाटक अध्यक्ष महावीरचंद धोका, पन्नालाल कोठारी, पारसमल लोढ़ा, अशोककुमार धोका, जंबुकुमार दुग्गड़, किशोर दलाल, रतन सिंघी, नेमीचंद दलाल, जसवंत गन्ना, शांतिलाल खिंवेसरा, सुआलाल दक महिला महामंत्री सपना सिंघवी, वसंता चोपड़ा वर्षावास समिति के अध्यक्ष केसरीमल बुरड़, धर्मेंद्र मरलेचा, गुलाबचंद पगारिया, नथमल मूथा, सूरजबाई कोठारी, प्रभा खाबिया व अन्य उपस्थित थे। इस अवसर पर हीराबाग़ श्रीसंघ , मुनिरेडीपालयम व अन्य क्षेत्रों की ओर से शैकेकाल विनती रखी गई। हीराबाग संघ के अध्यक्ष भीकमचंद सकलेचा, महावीरचंद धोका व अन्य ने अपने विचार व्यक्त किए।
संघ के प्रचार प्रसार प्रमुख नेमीचंद दलाल ने बताया कि एक दिसम्बर को साध्वी वृंद का बेंगलूरु विदाई समारोह राजाजीनगर स्थानक में आयोजित होगा। इससे पूर्व यशवंतपुर से विहार कर साध्वी वृन्द शनिवार सुबह राजाजीनगर स्थानक पहुंचेंगी। तत्पश्चात साध्वी वृंद का विहार विजयनगर से मैसूर की ओर होगा। संचालन उत्तमचंद चतर ने किया। केसरीमल बुरड़ एवं सुजानमल बुरड़ ने सभी का स्वागत किया। कल्याणसिंह बुरड़ ने सभी का आभार जताया।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned