साध्वी डॉ. कुमुदलता का श्रीरंगपट्टण में चातुर्मास प्रवेश

साध्वी ने कहा, चातुर्मास एक संस्कार पर्व

By: Santosh kumar Pandey

Published: 04 Jul 2020, 07:25 PM IST

बेंगलूरु. साध्वी डॉ. कुमुदलता आदि ठाणा चार का श्रीरंगपट्टनम में सादगीपूर्ण सोशल डिस्टेन्स के साथ चातुर्मास प्रवेश हुआ। धर्मसभा को सम्बोधित करते हुए डॉ. कुमुदलता ने कहा कि चातुर्मास श्रावक और संत को जोडऩे का काम करता है।

चातुर्मास उस दर्पण के समान है, जिसमें झांककर हम जान सकते हैं कि हम धर्म के कितने नजदीक हैं। धर्म का कितना पालन कर रहे हैं। चातुर्मास को संस्कार पर्व भी कह सकते हैं। चातुर्मास साधु मानव में मानवता के संस्कार भरने का कार्य करता है। गुरु भक्त वर्षावास समिति मैसूरु एवं युवा मंडल श्रीरंगपट्टनम ने बहुत अच्छी व्यवस्था के साथ प्रवेश का कार्य संपन्न कराया।

इस अवसर पर समारोह के अध्यक्ष चैनराज छाजेड़ एवं राजकीय अतिथि के रूप में भवानी गौड़ा भी उपस्थित थीं। श्रीरंगपट्टनम विधायक रविंदश्रीपाल ने साध्वी के दर्शन का लाभ लिया। बेंगलूरु से गणपत राज, मंजू बाफना, पुष्पा बोहरा, महेंद्र टोडरवाल, सुरेंद्र टोडेरवाल, भंवरलाल भंडारी ने चातुर्मास प्रवेश की शुभकामना दी।

साध्वी महाप्रज्ञा ने गीतिका प्रस्तुत की। साध्वी डॉ.पद्मकीर्ति ने कहा कि मैसूरु की भक्ति वश आज श्रीरंगपट्टनम में वर्षावास हुआ। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में जेडीएस श्रमिक प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष सी. एल. चौधरी, शिव शर्मा एव भाजपा कोर कमेटी के सदस्य सुशील तलेसरा, पंडित भानु प्रकाश उपस्थित थे।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned