जैसा नजरिया रखेंगे वैसा ही नजारा नजर आएगा-साध्वी पद्मकीर्ति

श्रीरंगपट्टण में धर्मसभा

By: Yogesh Sharma

Updated: 14 Jun 2020, 07:30 PM IST

बेंगलूरु. श्रीरंगपट्टण में विराजित साध्वी डॉ. पद्मकीर्ति ने कहा कि इंसान जैसा बोता है, वैसा ही फल प्राप्त करता है। अर्थात जैसा वह दूसरों को देगा वैसा ही उसको मिलेगा। जिस प्रकार एक पशु कांच के कमरे में चला जाए तो उसे कमरे में चारों और पशु ही आने लगते हैं। उन्हें देखकर वह भौंकता है, झपटता है, कांच पर अपने ही प्रतिबिम्ब पर नाखून मारता है, जिसके फलस्वरूप वह लहुलुहान हो जाता है। उसी प्रकार कुछ दिनों बाद एक राजकुमार भी उस कमरे में जाता है पूरे कमरे के कांचों में उसे कई राजकुमार नजर आते हैं और इतने सारे राजकुमारों को देखकर वह प्रसन्न हो जाता है। इसलिए यह दुनिया स्वयं का प्रतिबिम्ब है। इसके अलावा कुछ नहीं। अगर हम यहां पशु बनकर जाएंगे तो चारों तरफ पशु ही पशु नजर आएंगे और राजकुमार बनकर जाएंगे तो चारों तरफ हमें राजकुमार ही मिलेंगे।
हम जैसा नजरिया रखेंगे वैसा ही नजारा हमें नजर आएगा। क्रोधी को क्रोध करने वाले, प्रेमी को प्रेम करने वाला नजर आएंगे। इसलिए हम अपने दृष्टिकोण को नकरात्मकता की ओर से निकालकर सकारात्मकता की ओर लगाएं। यदि हमारी सोच सकारात्मक होगी तो हमें भविष्य में सुखद परिणामों की प्राप्ति होगी। यदि हम जीवन के प्रति नकारात्मक रहेंगे तो कई प्रकार के मानसिक, शारीरिक रोगों से ग्रसित हो जाएंंगे तथा हर कदम पर असफलता का ही मुंह देखना पड़ेगा।
आज मैसूर से 20 किलोमीटर का पैदल विहार करके आये युवाओं ने श्रीरंगपट्टण में साध्वियों के दर्शन का लाभ लिया। इनमें महेन्द्र दरड़ा, रोशन बांठिया, अरविंद सिंघवी, प्रमोद खिंवसरा, महेश दरला, दानमल दरला, दिनेश दरला, विकास दरला, विशाल दरला आदि उपस्थित थे।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned