हाथ में आए मौके को लपक लें-आचार्य देवेन्द्र सागर

धर्मसभा

By: Yogesh Sharma

Published: 14 Sep 2021, 07:13 AM IST

बेंगलूरु. जयनगर के राजस्थान जैन मूर्ति पूजक संघ में विराजित आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने धर्म प्रवचन देते हुए कहा कि ये हम पर ही निर्भर है कि हम चाहें तो बिखर जाएं या पहले से बेहतर बन जाएं। हाथ में आए मौके को लपक लें या फिर उसे दूसरों के हाथों में जाने दें। आप बुरी किस्मत कहकर खुद को दिलासा भी दे देते हैं। लेकिन, सच यही है कि यह भाग्य पर नहीं, स्वयं पर निर्भर करता है। आप वही बन जाते हैं, जो आप चुनते हैं। अक्सर हम सब सोचते हैं कि यदि अवसर मिलता तो एक बढिय़ा काम करते। कलाकार अपनी श्रेष्ठ कृति के सृजन के लिए अबाधित एकांत खोजता है। कवि निर्जन वन में अपने शब्द पिरोता है। योगी शांत परिवेश में स्वयं को टटोलता है। छात्र परीक्षा की तैयारी के लिए रातों को जागता है, क्योंकि उस समय शांति होती है और उसे कोई परेशान या बाधित नहीं करता। दफ्तर और कुटुम्ब की गहन समस्याओं पर विचार करने के लिए एवं व्यापार व्यवसाय की लाभ-हानि के द्वंद्व से उपरत होने के लिए हम थोड़ी देर अकेले में जा बैठते हैं। योगी और ध्यानी कहते हैं कि आंखें बंद करो और चुपचाप बैठ जाओ, मन में किसी तरह के विचार को न आने दो-समस्याओं से जूझने का यह एक तरीका है। लेकिन हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए की गीता का ज्ञान वहां दिया गया जहां दोनों ओर युद्ध के लिए आकुल/व्यग्र सेनाएं खड़ी थीं। श्रीकृष्ण को अवतार का रूप मान लें तो सुनने वाले अर्जुन तो सामान्यजन ही थे। आज भी खिलाड़ी दर्शकों के शोर के बीच अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर दिखाते हैं। अर्जुन ने भरी सभा में मिट्टी से बनी मछली की आंख को भेदा था। असल में सृजन और एकाग्रता के लिए, जगत के नहीं, मन के कोलाहल से दूर जाना होता है। हम सब कुछ बड़ा करना चाहते हैं। कुछ बड़ा हासिल करने के सपने देखते हैं। कुछ ऐसा, जिससे हमारी अलग पहचान बन सके। यह चाहते सब हैं, पर कामयाब बहुत कम ही हो पाते हैं। कारण कि हम खुद को पूरी तरह अपने काम में डुबो नहीं पाते। अंत में आचार्य ने कहा की कुछ बड़ा करने के लिए जरूरी है कि हम ध्यान भटकाने वाली चीजों से दूर रहें। इसके लिए अपने रास्ते पर ध्यान होना बेहद जरूरी है।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned