शाहीन स्कूल की शिक्षिका और छात्रा की मां को मिली जमानत

एक लाख रुपए के निजी मुचलके पर दी गई जमानत

बेंगलूरु.

देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार बीदर के शाहीन स्कूल की प्रधानाध्यापिका फरीदा बेगम और 11 वर्षीय छात्रा की मां नजमुनिशां को 14 दिन पुलिस हिरासत में बिताने के बाद शुक्रवार को जमानत मिल गई। इन्हें एक लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दी गई है और जांच में सहयोग करने तथा जांच अधिकारी के सामने पेश होने के लिए भी कहा गया है।बीदर के पुलिस अधीक्षक डीएल नागेश ने कहा कि उन्हें अभी-अभी फोन पर सूचना मिली है कि दोनों महिलाओं को जमानत जिला एवं सत्र न्यायालय से जमानत मिल गई है। पिछले महीने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ स्कूल में हुए नाटक मंचन के आरोप में इन दोनों महिलाओं को 30 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था।

इससे पहले 11 फरवरी को जमानत याचिका पर सुनवाई हुई थी जिसके बाद मामला 14 फरवरी तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। आरोपी महिलाओं की ओर से अधिवक्ता बीटी वेंकटेश ने अपनी दलील में कहा था कि यह एक राजनीति से प्रेरित मामला है और बीदर जैसे छोटे शहर में रहने वाली दो महिलाएं राज्य के लिए खतरा नहीं हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि नाटक में नारे लगाने से कोई अशांति नहीं पैदा हुई और सरकार के प्रति किसी भी प्रकार की असहमति को बढ़ावा नहीं मिला।

Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned