सिद्धरामय्या को चामुंडेश्वरी क्षेत्र में हार का भय: कुमारस्वामी

सिद्धरामय्या को चामुंडेश्वरी क्षेत्र में हार का भय: कुमारस्वामी

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Apr, 01 2018 08:53:09 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

कुमारस्वामी ने कहा है कि चामुंडेश्वरी क्षेत्र में समझौते की राजनीति का सवाल ही नहीं

बेंगलूरु. जनता दल (ध) के प्रदेश अध्यक्ष एच.डी. कुमारस्वामी ने कहा कि मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या को चामुंडेश्वरी विधानसभा क्षेत्र में चुनाव हार जाने का भय सता रहा है। इसलिए वे वहीं डेरा डाल कर चुनाव प्रचार करने में लगे हैं लेकिन वहां की जनता इस बार उनको सटीक सबक सिखा कर रहेगी।

कुमारस्वामी ने रविवार को दावणगेरे में कहा कि चामुंडेश्वरी क्षेत्र में समझौते की राजनीति का सवाल ही नहीं उठता है। इस सीट पर कांग्रेस व जद (ध) के बीच सीधे मुकाबला होगा। पूर्व मंत्री जनार्दन रेड्डी के साथ बातचीत को महज अफवाह बताते हुए उन्होंने कहा कि रेड्डी बंधुओं के साथ बातचीत का कोई प्रयास नहीं किया गया है। चुनाव के समय मीडिया को इस तरह का मजाक नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे कार्यकर्ताओं के बीच गलत संदेश जाता है। उन्होंने कहा कि समाजविरोधी ताकतों से उनकी पार्टी का कोई सरोकार नहीं और चुनाव में रेड्डी बंधुओं के साथ की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग के अधिकारी वास्तव में अवैध धन ले जाने पर रोक लगाने के बजाय धन नहीं ले जाने वालों की तलाशी ले रहे हैं। अधिकारियों ने उनकी कार की तलाशी के दौरान शेविंग किट तक की तलाशी ली। क्या उसमें पैसा ले जाना संभव है? क्या उनको यह छोटी सी बात भी समझ नहीं आती है।

उन्होंने आरोप लगाया कि मैसूरु में पुलिस की गाडिय़ों में रखकर धन ले जाया जा रहा है पर इस की चुनाव आयोग सुध नहीं ले रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि बीती रात उनको पार्टी कार्यकर्ता के घर खाना खाने जाने से रोका गया। क्या भोजन किए बगैर भूखा ही सोना पड़ेगा। क्या हम किसी कार्यकर्ता के घर पर भोजन तक नहीं कर सकते?

जद (ध) की बहुमत सरकार बनाने में मदद करें : कुमारस्वामी

तुमकुरु. जनता दल (ध) के प्रदेश अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी ने जनता से अपील की है कि विधानसभा चुनाव में स्पष्ट बहुमत के साथ जनता दल (ध) की सरकार बनाने में मदद करें।

कुमारस्वामी ने तहसील मुख्यालय कोरटगेरे में रविवार को पार्टी की विकास पर्व रैली में कहा कि स्वयं को दलित तथा पिछड़ों का मसीहा बताने वाले सिद्धरामय्या ने सत्ता पाने के बाद इस समुदाय के विकास के लिए कुछ भी नहीं किया। 70 वर्षों से अधिक समय तक देश पर राज करने वाली कांग्रेस ने दलित समुदाय का केवल वोट बैंक के रूप में उपयोग किया है। कांग्रेस ने इस समुदाय के किसी भी नेता को आज तक मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी तक नहीं बनाया।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस तथा भाजपा के धन-बल के आगे जद (ध) कुछ नहीं है लेकिन पार्टी के पास जो समर्पित कार्यकर्ताओं की फौज है यही राज्य में जनता दल की सरकार स्थापित करेगी। मुख्यमंत्री बनने पर वे जनता का सेवक बन कर सरकार चलाना चाहते हैं। उनकी सरकार किसी आइएएस अधिकारी की सलाह पर नहीं किसान, दलित तथा आम जनता की सलाह पर चलेगी।

कुमारस्वामी ने कहा कि संभवत: कोरटगेरे विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लडऩे जा रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ जी.परमेश्वर को साढ़े चार वर्षों में कभी इस क्षेत्र की याद नहीं आई, अब चुनाव के समय डॉ. परमेश्वर तथा मुख्यमंत्री क्षेत्र का दौरा कर दोनों के भाई-भाई होने की घोषणा कर रहे हैं। लेकिन जनता भूली नहीं है कि पिछली बार परमेश्वर को किसने हराया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned