सिद्धरामय्या हैं गठबंधन सरकार के संकटमोचक

सिद्धरामय्या हैं गठबंधन सरकार के संकटमोचक

Sanjay Kumar Kareer | Updated: 30 Sep 2018, 10:10:46 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

गठबंधन सरकार का पतन नहीं होगा और यह सरकार अगले पांच साल चलेगी

बेंगलूरु. गठबंधन सरकार की समन्वय समिति के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि प्रदेश में सत्तारूढ़ जद-एस कांग्रेस की गठबंधन सरकार के लिए वे संकटमोचक की भूमिका निभा रहे हैं।

सिद्धरामय्या ने रविवार को मैसूरु में संवाददाताओं से कहा कि सरकार की समस्याएं दूर करने के मकसद से ही समन्वय समिति का गठन किया गया है और वे ही इस समिति के अध्यक्ष हैं। इस तरह वे सरकार के संकटमोचक की भूमिका अदा कर रहे हैं।

गठबंधन सरकार के बीच उभरने वाले मतभेद व समस्याएं दूर करने के लिए समन्वय समिति गठित की गई है। जब समस्याएं पेश आती हैं, समिति की बैठक बुलाकर उनका समाधान किया जाता है। उन्होंने दावा किया कि गठबंधन सरकार का पतन नहीं होगा और यह सरकार अगले पांच साल तक स्थिर प्रशासन देगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कोई भी विधायक पार्टी छोड़कर अन्य पार्टी में शामिल नहीं होगा। गठबंधन सरकार की ऋण माफी योजना ने लोगों से प्रशंसा प्राप्त की है। यह सरकार और भी अच्छे काम कर अगले पांच सालों तक बेहतरीन प्रशासन देगी। मंत्रिमंडल विस्तार पर सिद्धरामय्या ने कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार 3 अक्टूबर के बाद किया जाएगा और कांग्रेस कोटे के छह रिक्त पद शीघ्र भरे जाएंगे।

सिद्धरामय्या के मैसूरु प्रवास पर आने से शहर में राजनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। बीबीएमपी की तरह मैसूरु नगर निगम में भी दोनों दलों के बीच गठजोड की संभावनाओं को मूर्त रूप देने व अगले महापौर के चयन के लिए अनेक नेताओं ने रविवार सुबह सिद्धरामय्या के निवास पर पहुंचकर उनसे बातचीत की।

इस बीच, जनता दल-एस से बर्खास्त हरीश गौड़ा ने भी सिद्धरामय्या के निवास पर पहुंचकर उनके साथ काफी देर तक बातचीत की। बताया जाता है कि हरीश गौड़ा कांग्रेस में शामिल होने के इच्छुक हैं और दोनों नेताओं के बीच इसी मसले पर बातचीत हुई है।

राजनीतिक बयानों पर टिप्पणी नहीं: कुमारस्वामी

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने चामुंडेश्वरी सीट पर सिद्धरामय्या को राहु-केतु के एकजुट होकर चुनाव हराने संबंधी बयान पर कहा कि वे पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या के राजनीतिक तौर पर दिए बयान पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।
उन्होंने रविवार को यहां विधानसौधा के सामने दशहरा विंटेज कार रैली रवाना करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि सिद्धरामय्या ने अपनी भावनाओं की अभिव्यक्ति की है। सिद्धरामय्या ने किस कारणवश व किसी निशाना बनाकर यह बयान दिया है इसकी उनको कोई जानकारी नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned