सिद्धरामय्या ने कहा, रेवण्णा में भी है मुख्यमंत्री बनने की योग्यता

सिद्धरामय्या ने कहा, रेवण्णा में भी है मुख्यमंत्री बनने की योग्यता

Shankar Sharma | Publish: May, 17 2019 11:35:33 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

राज्य में सूखा राहत कार्य से ज्यादा लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद क्या मुख्यमंत्री बदला जाएगा। अगर मुख्यमंत्री बदलेंगे तो वे कौन होंगे, इस बारे में ही चर्चा शुरू हो गई है।

हुब्बल्ली. राज्य में सूखा राहत कार्य से ज्यादा लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद क्या मुख्यमंत्री बदला जाएगा। अगर मुख्यमंत्री बदलेंगे तो वे कौन होंगे, इस बारे में ही चर्चा शुरू हो गई है। पिछले कुछ दिन से पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ही फिर से मुख्यमंत्री बनें कहते हुए सिद्धरामय्या के खेमे के विधायक बयान दे रहे हैं। इसी बीच बुधवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री की दौड़ में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खरगे के नाम को चलाया था। इस बारे में गुरुवार को सिद्धरामय्या की ओर से किया गया ट्विट भी लोगों का ध्यान खींच रहा है।


उत्तर कर्नाटक में उपचुनाव में जुटे मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री के मुद्दे पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए मल्लिकार्जुन खरगे के नाम का जिक्र किया था। कुमारस्वामी ने कहा था कि अपनी क्षमता के कारण खरगे को पहले ही मुख्यमंत्री बन जाना चाहिए था लेकिन कांग्रेस पार्टी ने जान-बूझकर खरगे को मुख्यमंत्री पद से वंचित किया। इसके अलावा कांग्रेस में सिध्दरामय्या के विकल्प के तौर पर खरगे के नाम को उछाल कर रक्षात्मक राजनीति करने आगे आए थे।

गुरुवार को इस बार में चर्चा के लिए ट्विट करने के जरिए ही अपनी राय व्यक्त करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री सिध्दरामय्या ने कहा कि एचडी कुमारस्वामी ने सही कहा है। मल्लिकार्जुन खरगे में मुख्यमंत्री पद ही नहीं उससे उच्च पद हासिल करने की योग्यता है। कांग्रेस तथा जद (ध) में मुख्यमंत्री पद के काबिल बहुत सारे लोग हैं। इनमें एचडी रेवण्णा भी एक हैं। सब के लिए समय आना चाहिए कहने के साथ फिर से चर्चा का केंद्र बिन्दु बने हैं।


कुमारस्वामी ने सुलगाई चिंगारी
वास्तव में कांग्रेस पार्टी के भीतर वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खरगे तथा सिध्दरामय्या के गुटों के बीच सब कुछ ठीक नहीं है यह किसी से छिपा नहीं है। बाहरी सिध्दरामय्या के कांग्रेस पार्टी में आकर मुख्यमंत्री बनने के बारे में मल्लिकार्जुन खरगे ने पूर्व में ही खुलकर नाराजगी व्यक्त की थी। इसके अलावा वर्ष 2018 में हुए विधान परिषद चुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे सिध्दरामय्या के करीबी मुख्यमंत्री चंद्रु का पत्ता काटकर खरगे ने अपने करीबी यूबी वेंकटेश के नाम को अंतिम किया था। तभी से दोनों गुटों के बीच रंजिश चल रही है।


राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि इस बीच राज्य में गठबंधन सरकार सत्ता में है। कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बने हैं परन्तु कुछ कांग्रेस विधायक मात्र बार-बार मुख्यमंत्री पद के लिए सिध्दरामय्या का नाम उछाल रहे हैं जिससे खुद कुमारस्वामी को असमंजस का सामना करना पड़ रहा है।

इसी कारण कांग्रेस के भीतरी गुट राजनीति को फिर से हवा देने के जरिए अपने पद को बचाने की खातिर कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री की दौड़ में खरगे के नाम को घसीटा परन्तु कुमारस्वामी के इस बयान पर उतना ही शालीनता से खिंचाई करते हुए सिध्दरामय्या ने अपने ट्विट में खरगे की तारीफ की है। लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता खरगे को मुख्यमंत्री पद से उच्च पद उपलब्ध होना चाहिए कहने के जरिए खरगे राष्ट्र राजनीति में ही रहेंगे कहने के संकेत दिए हैं।


इसके अलावा इस ट्विट में मुख्यमंत्री पद के काबिल कांग्रेस व जद (ध) पार्टी में बहुत सारे लोग हैं। यह योग्यता एचडी रेवण्णा में भी है कहने के जरिए मुख्यमंत्री कुमारस्वामी की खिचाई की है। अब इस विवाद को दूसरी दिशा में ले गए हैं। अब सिध्दरामय्या के इस बयान का उद्देश्य कुमारस्वामी तथा रेवण्णा के बीच दरार पैदा करने की साजिश के तौर पर देखा जा रहा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned