छह जिलों के लिए नए प्रभारी मंत्री

उपचुनाव के परिणाम घोषित होते ही आदेश जारी

By: Sanjay Kulkarni

Published: 03 May 2021, 05:11 AM IST

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने रविवार को कुछ जिला प्रभारी मंत्रियों के प्रभार में बदलाव के साथ ही बिना प्रभारी मंत्री वाले तीन जिलों- बेलगावी, कोलार और चिकमगलूरु के लिए मंत्रियों को जिला प्रभारी के तौर पर जिम्मेदारी दी। कुछ जिलों के जिला प्रभारी मंत्रियों को नहीं को लेकर भी विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा था।उपमुख्यमंत्री गोविंद कारजोल को बेलगावी जिले की जिम्मेदारी दी गई है।

बेंगलूरु शहर के बाद सबसे अधिक चार मंत्री इसी जिले से हैं, लेकिन उनमें से किसी को जिला प्रभारी की जिम्मेदारी नहीं दी गई। इससे पहले कारजोल के पास गृह जिले के साथ ही कलबुर्गी की जिम्मेदारी भी थी। बेलगावी जिले के प्रभारी मंत्री के प्रबल दावेदार माने जा रहे खाद्य व नागरिक आपूर्ति मंत्री उमेश कत्ती को बागलकोट जिले की जिम्मेदारी दी गई है। बागलकोट जिले से आने वाले खान व भूगर्भ मंत्री मुरुगेश आर निराणी को कलबुर्गी जिले की जिम्मेदारी दी गई है।
चीनी और शहरी निकाय प्रशासन मंत्री एमटीबी नागराज को कोलार जिले की जिम्मेदारी दी गई, इससे पहले यह जिम्मेदारी एच नागेश के पास थी। मंत्रिमंडल के पिछले मंत्रिमंडल फेरबदल से पहले पार्टी के निर्देश पर आबकारी मंत्री नागेश ने त्याग पत्र दे दिया था। मत्स्य व बंदरगाह मंत्री एस अंगारा को चिकमगलूरु जिले की जिम्मेदारी दी गई। पिछले भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बनाए गए सी टी रवि के मंत्रिमंडल से त्याग पत्र देने के बाद से जिला प्रभारी मंत्री का पद रिक्त था।

कन्नड़ व संस्कृति मंत्री अरविंद लिंबाबली को बीदर जिले की जिम्मेदारी दी गई है। पहले इस जिले की जिम्मेदारी पशुपालन मंत्री प्रभु चौहान के पास थी, चौहान को अब यादगिर जिले की जिम्मेदारी दी गई है।उल्लेखनीय है कि इससे पहले मुख्यमंत्री ने जिला प्रभारी मंत्रियों में बदलाव के संकेत दिए थे लेकिन उपचुनाव के कारण बदलाव नहीं किया गया था। उपचुनाव के परिणाम घोषित होते ही आदेश जारी किया गया है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned