बेंगलूरु विश्वविद्यालय कैंपस में उत्पादित सौर ऊर्जा व्यर्थ

बेंगलूरु विश्वविद्यालय कैंपस में उत्पादित सौर ऊर्जा व्यर्थ
बेंगलूरु विश्वविद्यालय कैंपस में उत्पादित सौर ऊर्जा व्यर्थ

Nikhil Kumar | Updated: 19 Sep 2019, 07:10:17 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

Bangalore University के करीब 500 एकड़ में फैले ज्ञानभारती कैंपस के विभिन्न भवनों पर सौर ऊर्जा पैनल स्थापित हैं। इनसे कैंपस में पर्याप्त बिजली का उत्पादन संभव है, लेकिन बेसकॉम बिजली खरीदने में अब रुचि नहीं दिखा रही है। जिसके कारण बेंगलूरु विवि उलझन में है।

 

अतिरिक्त बिजली खरीदने में बेसकॉम को रुचि नहीं

बेंगलूरु. Solar Power Generation को प्रोत्साहित करने के लिए बेंगलूरु बिजली वितरण कंपनी (BESCOM) ने कई योजनाएं शुरू की हैं। बेसकॉम इस योजना के अंतर्गत उत्पादित electricity खरीदने का दावा करती है। लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है।

सौर ऊर्जा पैनल पर Bangalore University ने करोड़ों रुपए खर्च किए हैं। विवि के कुलपति प्रो. केआर वेणुगोपाल ने कहा कि करोड़ों का निवेश व्यर्थ होने के साथ-साथ बहूमूल्य 500 किलोवाट सौर ऊर्जा की बरबादी चिंता की बात है। योजना लागू करते समय किए गए वादों के मुताबिक बेसकॉम को यहां पर उत्पादित अतिरिक्त बिजली खरीदनी चाहिए। इस मांग को लेकर बेसकॉम के साथ कई बार पत्र-व्यवहार किया गया है, लेकिन अभी तक बेसकॉम की ओर से कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिला है। अब उन्होंने बेसकॉम के प्रबंध निदेशक से संपर्क करने का मन बनाया है।

बेसकॉम की ओर से स्थापित सौर ऊर्जा पैनल से उत्पादित बिजली का उपयोग करने की अनुमति नहीं मिलने से गत 10 माह से सैकड़ों किलोवाट बिजली व्यर्थ हो रही है। अगर इसके उपयोग करने की अनुमति मिलती है तो विश्वविद्यालय को बिजली शुल्क में भुगतान से मुक्ति मिल सकती है। ज्ञानभारती विवि कैंपस को प्रति माह 300 किलोवाट बिजली की आवश्यकता है। यहां उत्पादित अतिरिक्त 200 किलोवाट सौर ऊर्जा बेसकॉम खरीदे तो विवि को प्रति माह आय भी हो।

अभी बेंगलूरु विवि ज्ञानभारती कैंपस में बिजली की आपूर्ति के लिए बेसकॉम को प्रति माह 20 लाख रुपए का भुगतान कर रही है। इस इकाई से विवि को प्रति वर्ष 2 करोड़ 40 लाख रुपए बिजली शुल्क की बचत हो सकती है। सौर ऊर्जा का उत्पादन करने वाला बेंगलूरु विवि राज्य का पहला विश्वविद्यालय है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned