महाश्रमण से सेवा के लाभ की विनती

महाश्रमण से सेवा के लाभ की विनती

Ram Naresh Gautam | Publish: Sep, 02 2018 05:40:15 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

संघ में मंत्री कमल तातेड़, संयोजक प्रकाश कुंडलिया, उम्मेद नाहटा, उपाध्यक्ष विकास लोढ़ा सहित अन्य पदाधिकारी शामिल थे

बेंगलूरु. राजस्थान परिषद के 108 लोगों के संघ ने चेन्नई पहुंचकर आचार्य महाश्रमण के दर्शन कर आशीर्वाद लिए। अध्यक्ष सूरज चिंडालिया, अर्हम मित्र मंडल के अध्यक्ष प्रदीप हीरावत ने आचार्य से विजयनगर अर्हम भवन में चातुर्मास से पहले प्रवास का समय सेवा देने का आग्रह करते हुए संस्था की जानकारी दी। संघ में मंत्री कमल तातेड़, संयोजक प्रकाश कुंडलिया, उम्मेद नाहटा, उपाध्यक्ष विकास लोढ़ा सहित अन्य पदाधिकारी शामिल थे।

 


प्राकृत भाषा में श्रेष्ठ महाकाव्यों की रचना : नागराजय्या
बेंगलूरु. देश में नौवीं सदी में प्राकृत भाषा में शृंगार रस युक्त महाकाव्यों की रचनाएं की गई थीं। प्राकृत तथा संस्कृत भाषाओं में रचित काव्य से प्रेरित होकर कन्नड़ साहित्य में भी छंद-युक्त महाकाव्यों की रचना संभव हुई है। साहित्यकार डॉ. एच.पी. नागराजय्या ने यह बात कही। शनिवार को कर्नाटक संस्कृत विवि के परिसर में प्राकृत भाषा की व्याप्ति को लेकर आयोजित व्याख्यानमाला में उन्होंने कहा कि प्राकृत भाषा में ज्ञान का भंडार है। इसलिए इस भाषा के अध्ययन, शोध कार्यों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। राज्य में शीघ्र ही श्रवणबेलगोला क्षेत्र में प्राकृत विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही है।

इससे पहले प्राकृत भाषा में रचित महाकाव्य पर व्याख्यान देने के के लिए पहुंचे अमेरिका के हावर्ड विश्वविद्यालय के डॉ एंड्रयू ओलैट ने कहा कि नौवीं सदी के शुरुआत में ही प्राकृत भाषा में निर्वाणलीलावती-जिनेश्वरा, भुवनसुंदरी-विजयसिंहा, सुरसुंदरी-धनेश्वरा, तरंगावती-पालिता, कुवलायमाला-उट्टोदना जैसे बेमिसाल काव्यों की रचना की गई है। ऐसा साहित्य हमें देश की किसी अन्य भाषाओं में देखने को नहीं मिलता है। हमें इस साहित्य में तत्कालीन संस्कृति तथा परंपराओं का मार्मिक चित्रण देखने को मिलता है।

सातवाहन राजाओं के कार्यकाल में प्राकृत भाषा को राजाश्रय मिलने से इस भाषा में सहित्य का विपुल सर्जन संभव हुआ था। आज इस भाषा की कई श्रेष्ठ साहित्य रचनाएं लुप्त हो गई हैं। जो साहित्य उपलब्ध है उसका संरक्षण हमारा दायित्व है। इस अवसर पर संस्कृत विवि की कुलपति प्रो. पद्मशेखर ने विचार रखे। कार्यक्रम में कन्नड़ की वरिष्ठ लेखिका कमला नागराजय्या उपस्थित थीं।

Ad Block is Banned