राज्य सरकार का ध्यान केवल चुनाव पर

नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या का तंज

By: Sanjay Kulkarni

Published: 18 Apr 2021, 06:07 AM IST

बेंगलूरु. कोरोना महामारी की दूसरी लहर को गंभीरता से नहीं लेकर राज्य सरकार आम जनता के स्वास्थ्य की अनदेखी कर रही है। सरकार केवल उपचुनाव के परिणामों की चिंता में डूबी है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या ने यह बात कही।
उन्होंने ट्विटर पर कहा कि राज्य सरकार के पास इस समस्या से निपटने के लिए कोई स्पष्ट कार्ययोजना नहीं है। महामारी चरम पर पहुंचने के बाद अब इस सरकार को विपक्ष याद आ रहा है। विभागों में समन्वय का अभाव होने के कारण हालात बद से बदतर हो रहे हैं।
उन्होंने कहा कि न तेजी से परीक्षण किया जा रहा है। न समय पर जांच रिपोर्ट मिल रही। कोरोना संक्रमितों को चिकित्सा के लिए अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। 4-5 घंटों तक किसी भी अस्पताल में बेड नहीं मिलने के कारण संक्रमितों की मौत हो रही है। मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए परिजनों से पैकेज के रूप में 40 हजार रुपए वसूले जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि सरकार का प्रशासन पर कोई नियंत्रण नहीं है। हालात यहां तक पहुंचने के बावजूद राज्य सरकार केवल निजी क्षेत्र के अस्पतालों को धमकाने में व्यस्त है। सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा नहीं हो रही है। निजी अस्पतालों में चिकित्सा कराना आम आदमी के बस की बात नहीं है।
उन्होंने कहा कि लॉकडाउन को लेकर भी सरकार के मंत्री अलग-अलग बयान देकर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned