कोरोना वायरस को लेकर इस अस्पताल में मचा हड़कंप, तीन निगरानी में

- संक्रमण की पुष्टि से एक दिन पहले अस्पताल में थी युवती
- चिकित्सकों ने अस्पताल के एक अन्य चिकित्सक पर लगाया लापरवाही का आरोप

By: Nikhil Kumar

Published: 19 Mar 2020, 04:57 PM IST

बेंगलूरु. शहर के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल- विक्टोरिया अस्पताल परिसर स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ नेफ्रो यूरोलॉजी (आइएनयू) में कोरोना वायरस (Novel Corona Virus) के संक्रमण की आशंका को लेकर तीन लोगों को निगरानी में रखा गया है। बताया जाता है कि एक पीडि़त युवती संक्रमण की पुष्टि होने से एक दिन पहले अस्पताल आई थी। इस मामले में एक चिकित्सक की लापरवाही की बात सामने आ रही है। हालांकि, इसे लेकर चिकित्सक बंटे हुए हैं। कुछ चिकित्सकों ने कथित तौर पर लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक के खिलाफ चिकित्सा शिक्षा विभाग से कानूनी कार्रवाई की मांग की है। मंगलवार को जिस 20 वर्षीय युवती के संक्रमित होने की पुष्टि हुई वह रविवार को अस्पताल आई थी।

नाम नहीं छापने की शर्त पर आइएनयू की एक चिकित्सक ने बताया कि रविवार को आइएनयू के ही एक वरिष्ठ चिकित्सक के साथ एक 20 वर्षीय युवती आइएनयू आई थी। जानकारी के अनुसार युवती इस चिकित्सक की रिश्तेदार है। वह हाल ही में यूनाइटेड किंगडम से लौटी थी। प्रोटोकॉल और एक चिकित्सक होने के नाते भी संबंधित चिकित्सक को पता होना चाहिए कि विदेश यात्रा से लौटे किसी भी व्यक्ति को कम-से-कम 14 दिनों तक होम क्वैरेंटाइन में रहना चाहिए लेकिन सबकुछ जानते हुए भी चिकित्सक ने युवती को आइएनयू का भ्रमण कराया और रविवार उसे कोरोना जांच के लिए भी ले गए। लेकिन इस चिकित्सक ने पूरे मामले की जानकारी अस्पताल में किसी को नहीं दी।

वे सोमवार को आइएनयू भी आए, चिकित्सकों की बैठक में शामिल भी हुए और डायलिसिस इकाई का मुआयना भी किया। जानकारों का कहना है कि चिकित्सक को जब पता था कि उनकी रिश्तेदार कोरोना संदिग्ध है और जांच के लिए नमूने भेजे गए हैं, तब उन्हें सोमवार को खुद अस्पताल नहीं आना चाहिए था। सोमवार को युवती के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि के बाद संबंधित चिकित्सक और युवती के संपर्क में आए सभी लोगों पर संक्रमण का खतरा है। सभी को आइसोलेशन में रख जांचे जाने की त्वरित आवश्यकता है।

आइएनयू के निदेशक डॉ. केशवमूर्ति ने भी पुष्टि की कि संबंधित चिकित्सक युवती की जांच कराने रविवार को उसके साथ अस्पताल गया था। नमूने लिए जाने के दौरान भी चिकित्सक युवती के साथ ही था। लेकिन चिकित्सक ने किसी को इसकी भनक तक नहीं लगने दी और सोमवार को अस्पताल भी आया। एक बैठक में शामिल भी हुआ। युवती के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि के बाद पूरी कहानी सामने आई।

चिकित्सक के संपर्क में आने वाले अन्य चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों को निगरानी में रखा गया है। आइएनयू की एक अन्य चिकित्सक ने बताया कि संबंधित चिकित्सक सोमवार और मंगलवार को अस्पताल में ड्यूटी पर थे। अस्पताल में गुर्दा व गुर्दा प्रत्यारोपण मरीज भी हैं।

Corona virus
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned