कोरोना मरीजों के घर के बाहर नोटिस लगाना बंद करें

समिति की सिफारिश

By: Santosh kumar Pandey

Updated: 26 Aug 2020, 03:34 PM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक में कोरोना विशेषज्ञ समिति ने कोरोना मरीजों के घर के बाहर मरीज के बारे में नोटिस लगाना बंद करने की सिफारिश की है। समिति का कहना है कि घर के बाहर मरीज के बारे में नोटिस लगाने से पड़ोसियों में भय पैदा होगा और लोग जांच के लिए आगे नहीं आएंगे।

समिति का कहना है कि पहले से ही लोग जांच के लिए स्वयं आगे नहीं आ रहे हैं ऐसे में ज्यादा जांच की प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

समिति के चेयरमैन डॉ. सीएन मंजुनाथ का कहना है कि लोगों को कोरोना के साथ जीने का छह माह का अनुभव हो चुका है। ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह लोगों में भय दूर करे। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों में भी विश्वास बढ़ाने के लिए प्रयास किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कोरोना के लक्षण के बावजूद लोग भय के कारण जांच के लिए नहीं आ रहे हैं। ऐसे में नोटिस लगाना बंद करना चाहिए।

चिकित्सकों को होटल में क्वारंटाइन करें

समिति ने यह भी सिफारिश की है कि दिल्ली की तरह कर्नाटक में भी कोविड-१९ की ड्यूटी करनेवाले चिकित्सकों को हर चौदह दिन के बाद किसी अच्छे होटल में क्वारंटाइन किया जाए।

बता दें कि समिति का गठन सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर हुआ है। समिति राज्य में कोविड-19 मरीजों के इलाज, दवाओं की उपलब्धता आदि की निगरानी करेगी। हाल ही समिति की बैठक के बाद यह सिफारिशें की गई हैं।

COVID-19 virus
Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned