scriptStress is also a part of our life - Devendra Sagar | तनाव भी हमारी जिंदगी का एक हिस्सा-देवेंद्रसागर | Patrika News

तनाव भी हमारी जिंदगी का एक हिस्सा-देवेंद्रसागर

धर्मसभा का आयोजन

बैंगलोर

Published: November 19, 2021 09:33:14 am

बेंगलूरु. जयनगर के राजस्थान जैन मूर्ति पूजक संघ में आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने कहा कि भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव भी हमारी जिंदगी का एक हिस्सा बनकर रह गया है। सामान्य बोलचाल में तनाव का अर्थ है खिंचाव। इस खिंचाव का कारण होता है, हमारे शरीर में तनाव पैदा करने वाले हार्मोंस का बढ़ जाना। इसके लिए उत्तरदायी हैं हमारी कार्यशैली, जीवनशैली, हमारी महत्वाकांक्षाएं और सबसे बढक़र हमारी सोच। आज हर कोई समस्याओं और काम के बोझ से त्रस्त है। बढ़ती हुई समस्याएं और सारा ध्यान हर समय उन समस्याओं पर केंद्रित रहना तनाव का प्रमुख कारण है। विभिन्न दुश्चिंताओं के कारण जब हमारे शरीर में स्ट्रेस हार्मोंस अधिक बढ़ जाते हैं तो शरीर में विभिन्न मांस-पेशियों में सामान्य से अधिक खिंचाव उत्पन्न हो जाता है। इससे शरीर के कई तंत्र ठीक से कार्य नहीं कर पाते। ऐसे में कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। लगातार रहने वाला तनाव अवसाद में बदल सकता है जो अत्यंत घातक है। इसलिए तनाव को नियंत्रित करना बेहद जरूरी है। जहां तक तनाव से पूर्ण मुक्ति की बात है, तो वह न तो संभव है और न ही जरूरी। थोड़ा बहुत तनाव रहना तो हमारे हित में ही होता है लेकिन जब यह एक सीमा से अधिक बढ़ जाता है तो घातक हो जाता है। आचार्य ने उदाहरण देते हुए कहा कि अपने घरों में कपड़े सुखाने के लिए हम अक्सर कुछ रस्सियां बांध लेते हैं। यदि कोई रस्सी बहुत ढीली बंधी होती है तो कपड़े डालते ही लटक जाती है और सारे कपड़े बीच में एक जगह आकर इक_े हो जाते हैं। और यदि रस्सी को बहुत खींचकर बांधा जाता है तो वह ज्यादा तनाव या खिंचाव के कारण जल्दी टूट जाएगी। सबसे बड़ी बात तो यह है कि बहुत अधिक तनी हुई रस्सी का अगर हम प्रयोग न करें तो भी वह अपेक्षाकृत जल्दी टूट जाएगी। इसीलिए रस्सी को न तो बहुत ज्यादा खींचकर बांधा जाता है और न बहुत ढीला ही रखा जाता है। तनाव को लेकर बिल्कुल ऐसी ही स्थिति हमारी होती है। यदि जीवन में बिल्कुल तनाव नहीं होगा तो हम निठल्ले और कामचोर हो जाएंगे और हमारी आदत टालमटोल करने की हो जाएगी। लेकिन यदि तनाव बहुत अधिक है तो वह हमें निश्चित रूप से बीमार बना देगा। अंत में आचार्य ने कहा कि जीवन में समस्याओं की तरह ही तनाव भी उपयोगी होता है।
तनाव भी हमारी जिंदगी का एक हिस्सा-देवेंद्रसागर
तनाव भी हमारी जिंदगी का एक हिस्सा-देवेंद्रसागर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Army Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावUttar Pradesh Assembly Elections 2022: टूटेगी मायावती और अखिलेश की परंपरा, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्रीUP Election: सपा RLD की दूसरी लिस्ट जारी, 7 प्रत्याशियों में किसी भी महिला को नहीं मिला टिकटजम्मू कश्मीर में Corona Weekend Lockdown की घोषणा, OPD सेवाएं भी रहेंगी बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.