scriptSuggestions sought to curb accidents by organizing workshop | कार्यशाला आयोजित कर दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मांगे सुझाव | Patrika News

कार्यशाला आयोजित कर दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मांगे सुझाव

केएसआरटीसी ने दुर्घटनाओं को लेकर संवेदनशील

बैंगलोर

Updated: May 18, 2022 07:48:24 am

बेंंगलूरु. कर्नाटक राज्य सडक़ परिवहन निगम (केएसआरटीसी) की ओर से बस दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से बातचीत और जागरुकता कार्यशाला का आयोजन मंगलवार को केएसआरटीसी की केन्द्रीय कार्यशाला में किया गया। कार्यशला के उद्घाटन अवसर पर निगम के प्रबंध निदेशक वी. अंबुकुमार ने चालकों को संबोधित करते हुए कहा कि वे दुर्घटनाओं के संबंध में अपनी राय और सुझाव स्वतंत्र रूप से व्यक्त कर सकते हैं। यह कार्यशाला उन्हें अपनी त्रुटि सुधारने और भविष्य में दुर्घटनाओं को रोकने के उपाय करने की योजना बनाने में मदद करेगी। निदेशक कार्मिक और सतर्कता डॉ. नवीन भटïï्ट वाई. ने भी अपने विचार साझा किए और कार्यशाला के उद्देश्य पर ड्राइविंग स्टाफ से विचार-विमर्श किया। उन्होंने कहा कि दुर्घटना के मामले में चाहे बस का यात्री हो या चालक दल का सदस्य, किसी की मृत्यु और पीड़ा के बारे में हमें चिंतित होना चाहिए। यह वास्तव में उन लोगों के लिए एक दर्दनाक और अपूरणीय क्षति है जो स्थायी रूप से विकलांग हो जाते हैं। वहीं कर्मचारी या किसी अन्य की मृत्यु के बाद परिवार का गुजारा करना मुश्किल होता जाता है। दुर्घटनाओं को रोका जाना चाहिए, भले ही वे अप्रत्याशित हों।
आंकड़े बताते हैं कि 39 फीसदी दुर्घटनाएं 40 से 50 साल की उम्र के ड्राइवरों के कारण होती हैं। लगभग 23 प्रतिशत दुर्घटनाएं 36 से 40 वर्ष की आयु के ड्राइवरों के कारण होती हैं। दोपहिया वाहनों द्वारा 44 प्रतिशत और पैदल चलने वालों द्वारा 19 प्रतिशत दुर्घटनाएं होती हैं। 27 प्रतिशत दुर्घटनाएं दोपहर १ से शाम ५ बजे के दौरान होना सामने आया है।
केएसआरटीसी के प्रबंध निदेशक ने निगम में हो रही बस दुर्घटनाओं पर गहरा खेद व्यक्त किया। केएसआरटीसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने हाल ही बेंगलूरु में एक दुर्घटना में घायल यात्रियों, बस चालकों और उनके परिवार से मुलाकात की। उन्हें सांत्वना दी गई और केएसआरटीसी द्वारा आश्वस्त किया गया कि इलाज का पूरा खर्च वहन किया जाएगा और घायलों के लिए "गेट वेल किट" (फलों की थैली, साड़ी, ब्रेड, बिस्किट, हॉर्लिक्स और भोजन किट) प्रदान किए गए। उन्होंने कहा इस मानवीय दृष्टिकोण को आने वाले दिनों में केएसआरटीसी के सभी संभागों में लागू किया जाएगा।
कार्यशाला के दौरान कुछ प्रमुख मुद्दों को सामने रखा गया और उन पर विचार-विमर्श किया गया। संभागियों का मत था कि सडक़ दुर्घटना का मुख्य कारण राहगीरों द्वारा सडक़ पार करते समय मोबाइल पर बात करना सामने आया है। जबकि दोपहिया वाहन चालक बिना कोई संकेत दिए मुख्य सडक़ पर सवारी करते हुए अचानक मोड़ लेते हैं।
कार्यशाला के दौरान इसे प्रतिभागियों के लिए लाया गया, केएसआरटीसी ने समय-समय पर अपने वाहन को बनाए रखने, ड्राइवरों के लिए तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करने, गति को नियंत्रित करने और ड्राइवरों को बड़ी सावधानी से गाड़ी चलाने, कीमती जीवन बचाने के लिए कहा, और मृत्यु को रोकना और निष्कर्ष निकाला कि दुर्घटनाओं को कम करना अनिवार्य है ताकि केएसआरटीसी (वल्र्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट) इसका अध्ययन कर सके और इसकी रिपोर्ट कर सके। इस अवसर पर मुख्य यातायात प्रबंधक एंथनी जॉर्ज और निगम के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
कार्यशाला आयोजित कर दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मांगे सुझाव
कार्यशाला आयोजित कर दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मांगे सुझाव

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिवसेना में बगावत के बाद अब उपद्रव का डर! पोस्टर वॉर के बीच एकनाथ शिंदे के गढ़ ठाणे में धारा 144 लागूMaharashtra Political Crisis: नवनीत राणा ने की महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग, बोलीं- उद्धव ठाकरे की गुंडागर्दी खत्म होनी चाहिएAmarnath Yatra: अमरनाथ यात्रा से 4 दिन पहले प्रशासन अलर्ट, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाया बड़ा कदमAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा हैकेरल में राहुल गांधी के दफ्तर पर हुए हमले के बाद बड़ी कार्रवाई, DSP निलंबित, ADGP करेंगे मामले की जांचMumbai News Live Updates: ठाणे के बाद अब मुंबई में धारा 144 लागू, बागी एकनाथ शिंदे के आवास की भी बढ़ाई गई सुरक्षाMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारीआनंद महिंद्रा ने फूड स्टार्टअप की प्रशंसा की, कहा- आप इसे बिजनेस स्कूलों में नहीं सीख सकते
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.