चातुर्मास के दौरान संतों के सान्निध्य का लाभ लें: कपिलमुनि

  • जयकारों के बीच बेंगलूरु में नगर प्रवेश

By: Santosh kumar Pandey

Published: 12 Jul 2021, 08:01 AM IST

बेंगलूरु. कपिल मुनि ने रविवार को बेंगलूरु नगर सीमा में प्रवेश किया। वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ, कृष्णराजपुरम-राममूर्तिनगर के तत्वावधान में जैन स्थानक में मुनि के आगमन पर नगर प्रवेश समारोह आयोजित किया गया। मुनि के कृष्णराजपुरम स्थित जैन स्थानक में पहुंचने तक मार्ग में श्रद्धालुओं ने जयकारों से वातावरण को धर्ममय बना दिया। स्थानक में मुनि के प्रवेश होते ही विहार यात्रा धर्मसभा में बदल हो गई।

कपिल मुनि ने प्रवचन में कहा कि पांच साल के बाद मेरा बेंगलूरु आगमन हुआ है। बेंगलूरु वासियों के मन में देव -गुरु-धर्म के प्रति निष्ठा व समर्पण में गजब का आकर्षण है उसी के प्रभाव से मेरा भी बेंगलूरु आने का मानस बना।

मुनि ने बेंगलूरु के समस्त श्रद्धालुओं से आग्रह किया कि इस वर्ष श्रीरामपुरम में चातुर्मास के दौरान संत समागम का भरपूर लाभ लेकर जीवन को धन्य बनाएं और धर्म व संस्कृति के उत्थान में योगदान दें।

इस मौके पर संस्कार वाटिका महिला मंडल द्वारा स्वागत गीत की प्रस्तुति दी गई। संघ के मंत्री रिखबचंद मेहता ने विचार व्यक्त किए।
इस मौके पर राजेन्द्र प्रसाद कोठारी, श्रीरामपुरम संघ के अध्यक्ष शांतिलाल खींवसरा, सुआलाल दक आदि ने भी मुनि के बेंगलूरु आगमन पर मंगल भावना प्रकट की।

सोहनराज मेहता,प्रकाशचंद ओस्तवाल, उत्तमचंद मुथा, रमेश खाबिया, अनिल कोठारी, ताराचंद गुगलिया, ज्ञानचंद बाफना, महावीरचंद बोहरा, शांतिलाल दलाल, सुधीर सिंघवी आदि गणमान्य व्यक्ति सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुगण उपस्थित थे। अध्यक्ष मोतीलाल लोढ़ा ने आभार जताया।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned