शिविर में तप, ध्यान सीख रहे बच्चे

शिविर में तप, ध्यान सीख रहे बच्चे

Shankar Sharma | Publish: Oct, 14 2018 01:58:55 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

वासुपूज्य स्वामी जैन मूर्तिपूजक संघ के तत्वावधान में आचार्य नयचंद्र सागर सूरीश्वर, मुनि अजितचंद्र सागर की निश्रा में अक्कीपेट आराधना भवन में १० से १७ वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के लिए दस दिवसीय पौषध शिविर आयोजित किया गया।

बेंगलूरु. वासुपूज्य स्वामी जैन मूर्तिपूजक संघ के तत्वावधान में आचार्य नयचंद्र सागर सूरीश्वर, मुनि अजितचंद्र सागर की निश्रा में अक्कीपेट आराधना भवन में १० से १७ वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के लिए दस दिवसीय पौषध शिविर आयोजित किया गया। संघ के कैलाश सखलेचा ने बताया कि शिविर में ७५ से ज्यादा बच्चों ने भाग लिया। शिविर में ध्यान, साधना, धार्मिक शिक्षा, सरस्वती साधना, प्रतिक्रमण, देववंदन, गुरुवंदन, आयंबिल, उपवास आदि करवाए गए।


श्रद्धालुओं ने की ध्यान, साधना
बेंगलूरु. वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ, हनुमंत नगर के तत्वावधान में साध्वी सुमित्रा, साध्वी सुप्रिया के सान्निध्य में शनिवार को महाप्रभाविक पैंसठिया अनुष्ठान चौथे दिन भी गतिमान रहा।


साध्वी सुप्रिया ने तीर्थंकर प्रभु की गुणस्तुति के साथ तीर्थंकर भगवान के विशेष प्रतीक चिह्नों पर श्रद्धालुओं को विधिवत ध्यान, साधना, आराधना करवाई। साध्वी सुदीप्ति ने पैंसठिया जाप अनुष्ठान का सस्वर २७ बार पारायण कराया।
साध्वी सुविधि ने वीर स्तुति के साथ भजन प्रस्तुत किए। संचालन युवा संघ के अध्यक्ष राजेश गोलेच्छा ने किया।


धूम धाम से मनाया वार्षिकोत्सव
मंड्या. केआरपेट तहसील के चोटणहल्ली गांव में स्थित लक्ष्मी देव स्थान का वार्षिक उत्सव धूम धाम से मनाया गया। देवस्थान में विशेष पूजा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। देव स्थान को फूलों व विद्युत रोशनी से सजाया गया। भक्तों को प्रसाद वितरिण्त किया गया। बोरणकोप्पल, नेनण कोप्पल, कुम्बेणहल्ली आदि गांवों से भी श्रद्धालु पहुंचे।'

वाटर कूलर लगवाने की मांग, सौंपा ज्ञापन
मंड्या. श्रीरंगपट्टणम तहसील भवन में वाटरकूलर लगवाने की मांग को लेकर शनिवार को क्षेेत्र के लोगों ने तालुका कचहरी भवन में तहसीलदार नागेश को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में मंजुनाथ, नरसीमा, विनोद, सुधा मन्नी एवं निर्मला ने बताया कि तीन मंजिला कचहरी भवन में विभिन्न कार्यों के लिए आने वाले लोगों को पेय जल के लिए इधर-उघर भटकना पड़ता है। पेयजल उपलब्ध नहीं होने के कारण लोगों को दुकान से बोतलबंद पानी खरीदना पड़ रहा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned