एक लाख कॉर्निया प्रत्यारोपण का लक्ष्य

एक लाख कॉर्निया प्रत्यारोपण का लक्ष्य

Shankar Sharma | Publish: Sep, 02 2018 11:06:13 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा के उपलक्ष्य में आइ बैंक एसोसिएशन ऑफ इंडिया (इबीएआइ) व नारायण नेत्रालय (एनएन) ने शनिवार को द्वितीय दक्षिण भारत नेत्रदान सम्मेलन का आयोजन किया।

बेंगलूरु. राष्ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा के उपलक्ष्य में आइ बैंक एसोसिएशन ऑफ इंडिया (इबीएआइ) व नारायण नेत्रालय (एनएन) ने शनिवार को द्वितीय दक्षिण भारत नेत्रदान सम्मेलन का आयोजन किया।


एनएन के अध्यक्ष डॉ. भुजंग शेट्टी ने कहा, एनएन और इबीएआइ ने वर्ष २०२० तक देश भर में एक लाख कॉर्निया प्रत्यारोपण का लक्ष्य रखा है। करीब ३० हजार प्रत्यारोपण किए जा चुके हैं। देश में अंधत्व से जूझ रहे लोगों में से करीब १५ लाख लोग कॉर्निया खराब हो जाने के कारण देखने में असक्षम हैं। नेत्रदान को बढ़ावा मिले तो ये सभी लोग फिर से देख सकेंगे। दान के नेत्र संग्रह करने में दक्षिण भारत सबसे आगे है। इबीएआइ के आंकड़ों के अनुसार वर्ष २०१७-१८ में देश में संग्रहित ५७,१३८ नेत्रों में से दक्षिण भारत की हिस्सेदारी २९,७०८ रही।इनमें भी ४८४० नेत्र कर्नाटक से थे।


६० फीसदी आंखें बेकार
इबीएआइ (दक्षिण) के अध्यक्ष एम.के. कृष्णा ने कहा कि दान की गई आंखों में से ४० फीसदी आंखें की प्रत्यारोपण के काम में आती हैं। इसके पीछे कई कारण है। एक लाख कॉर्निया प्रत्यारोपण के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए तीन लाख कॉर्निया की जरूरत पड़ेगी। जो नेत्रदान से ही संभव है। इसके लिए हर जिले में एक आइ बैंक और हर तालुक में एक आंख संग्रह केंद्र बनाने का लक्ष्य है।


गायत्री को हरीश नंजप्पा पुरस्कार
मधुगिरी नेत्र संग्रह केंद्र की गायत्री नारायण सीए को हरीश नंजप्पा वार्षिक पुरस्कार से नवाजा गया। गायत्री ने करीब २५० नेत्रदान में भूमिका निभाई है। ज्ञात हो कि हरीश नंजप्पा १६ फरवरी २०१६ को मैसूरु रोड पर सडक़ दुर्घटना में घायल हो गया था।


कमर के ऊपर से उसका शरीर लगभग दो हिस्सों में कट गया था। हरीश घंटों तक सडक़ पर मदद के इंतजार में पड़ा रहा था, लेकिन मदद के लिए कोई आगे नहीं आया था। बाद में एक एम्बुलेंस चालक ने हरीश को अस्पताल पहुंचाने का बीड़ा उठाया था। लेकिन एम्बुलेंस में हरीश ने चालक से कहा था,‘नहीं बचा तो आंखे दान कर देना। शरीर का जो भी हिस्सा दूसरों के काम आ सके उसे दान कर देना।’

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned