समय के साथ चलना ही आज की जरूरत है- आचार्य देवेंद्रसागर

धर्मसभा

By: Yogesh Sharma

Published: 01 Aug 2021, 07:27 AM IST

बेंगलूरु. किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सही दिशा में सही अवसर को पहचानना आवश्यक होता है। यदि आपने समय पर इस अवसर को नहीं समझा तो फिर बाद में पछताने के सिवा और कुछ नहीं रह जाता। समय का महत्व समझते हुए उसका सही प्रबंधन करना आवश्यक होता है। समय किसी के लिए नहीं रुकता, इसके साथ चलना ही आज की जरूरत है। यह बात आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने राजस्थान जैन मूर्तिपूजक संघ में कही। उन्होंने कहा कि सफल व्यक्तियों की एक प्रमुख विशेषता यह होती है कि वह वास्तविकता को स्वीकार करने से कभी कतराते नहीं हैं और अपनी कमियों को समझकर एवं उन्हें दूर करने के लिए निरंतर प्रयास करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि हम अपने जीवन को जिस रूप में ढालना चाहते हैं वह उसी रूप में ढल जाता है। समस्याएं जीवन का एक अभिन्न अंग होता है, किसी के जीवन में यह अधिक हो सकता है और किसी के जीवन में कम। इन समस्याओं की प्रकृति भी अलग-अलग होती है, लेकिन अधिकांश लोग समस्याओं को बढ़ा चढ़ाकर देखने की आदत होती हैं। जबकि वास्तव में समस्या इतनी गंभीर नहीं होती है जितनी की ऊपर से दिखाई देती है। जीवन में समय-समय पर आने वाली समस्याओं को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है। पहली तरह की समस्याएं वे होती हैं, जो सीधे हमारे व्यवहार से जुड़ी होती है। दूसरी वे समस्याएं होती हैं जो लोगों के व्यवहार से उत्पन्न होती हैं। पहली तरह की समस्याओं पर हमारा प्रत्यक्ष नियंत्रण होता है जबकि दूसरी तरह की समस्याओं पर अप्रत्यक्ष नियंत्रण होता है। तीसरी तरह की समस्या वह होती है जो हमारे नियंत्रण में नहीं होती है। जैसे कि हमारा अतीत में घटी समस्याएं। जो समस्याएं हमारे नियंत्रण में नहीं है उन्हें स्वीकार कर लेना ही बुद्धिमानी होती है तथा कोशिश यह होनी चाहिए कि हमारी सफलता में समस्याएं बाधक ना बने। इस प्रकार की समस्याओं के विषय में सोच-सोच कर परेशान होने से भी कोई फायदा नहीं है।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned