बेड की कमी के कारण बोरिंग अस्पताल भेजी गई थी मरीज

  • एक घंटे बाद ही हो गई मौत

By: Santosh kumar Pandey

Updated: 27 Mar 2020, 02:11 PM IST

बेंगलूरु. भले ही राज्य में कोरोना संक्रमण (corona in karnataka) का मामला महाराष्ट्र या केरल जैसा गंभीर नहीं है मगर अभी से बेड की कमी पडऩे लगी है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री के.सुधाकर ने बताया कि जिस 70 वर्षीय महिला की मौत कोरोना संक्रमण से हुई है, उसे बेड की अनुपलब्धता के कारण राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ चेस्ट डिजीज (आरजीआइसीडी ) से बॉउरिंग अस्पताल शिफ्ट करना पड़ा जहां उसकी मौत हो गई।

सुधाकर ने कहा ‘वह एक उम्र दराज महिला थी जो आंध्र प्रदेश से गौरीबिदनूर आई थीं। वह मध्य-पूर्व के देशों से लौटीं थी। चूंकि, आरजीआइसीडी में बेड नहीं था इसलिए उसे बॉउरिंग अस्पताल भेजना पड़ा। वह रात में 12 बजे बॉउरिंग अस्पताल पहंची और 1 बजे उसकी मौत हो गई।’
सुधाकर ने कहा कि सरकार तीन ‘टी’ फार्मुले पर चल रही है।

ये तीन टी हैं ट्रेस (पता लगाओ), टेस्ट (जांच करो), ट्रीटमेंट (उपचार करो)। उन्होंने यह भी बताया कि राज्य में 1 लाख 25 हजार विदेशों से आने वाले संदिग्ध क्वारंटाइन में रखे गए हैं। या तो वे होम क्वारंटाइन में हैं या मास क्वारंटाइन में।

Corona virus
Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned