कर्नाटक में सरकार बनाने में भूमिका निभाने वाले भाजपा नेता के कांग्रेस में जाने की संभावना

कर्नाटक में सरकार बनाने में भूमिका निभाने वाले भाजपा नेता के कांग्रेस में जाने की संभावना
Symbolic

Ram Naresh Gautam | Updated: 10 Oct 2019, 12:22:42 AM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

  • बताया जाता है कि भाजपा (BJP) के मुख्‍यमंत्री (CM) ने कई माह पहले उनसे से वादा किया था कि अगर भाजपा की सरकार बनी तो उन्हें मंत्रिमंडल (Cabinate) में शामिल किया जाएगा।

बेंगलूरु. कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धरामय्या और कर्नाटक में भाजपा की सरकार बनाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले पूर्व विधायक सीपी योगेश्वर के बीच गुप्त मुलाकात ने प्रदेश की राजनीति में हलचल पैदा कर दी है। सिद्धरामय्या ने उन्हें कांग्रेस में आने की पेशकश की है।

सूत्रों के अनुसार हाल ही में नई दिल्ली के दौरे पर सिद्धरामय्या की मुलाकात योगेश्वर से हुई। योगेश्वर एक निजी कार्यक्रम में भाग लेने दिल्ली गए थे।

योगेश्वर ने भाजपा में दरकिनार किए जाने की शिकायत की, इस पर सिद्धरामय्या ने योगेश्वर को कांग्रेस में आने का न्योता दिया। मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा के करीबी माने जाते योगेश्वर को पार्टी ने कोई अहम जिम्मेदारी नहीं दी है।

बताया जाता है कि येडियूरप्पा ने कई माह पहले योगेश्वर से वादा किया था कि अगर भाजपा की सरकार बनी तो उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा।

इसके लिए उन्हें विधान परिषद का सदस्य बनाया जाएगा। सरकार भी बन गई और मंत्रिमंडल का विस्तार भी हो गया, मगर वादा पूरा नहीं हुआ। इससे योगेश्वर निराश हैं।

जानकारों के अनुसार सिद्धरामय्या पर हमेशा से ही वोक्कालिगा विरोधी होने के आरोप लगते रहे हैं। सिद्धरामय्या इन आरोपों को दूर करने के उद्देश्य से योगेश्वर को कांग्रेस में वापस लाने का प्रयास कर रहे हैं।

सिद्धरामय्या योगेश्वर को पार्टी में वोक्कालिगा समुदाय का नेता बनाना चाहते हैं। कांग्रेस के विधायक व वोक्कालिगा नेता डीके शिवकुमार इस समय गिरफ्तारी झेल रहे हैं।

रामनगर जिले में शिव कुमार और उनके भाई डीके सुरेश के दबदबे को कम करने के उद्देश्य से भी योगेश्वर को लाने के प्रयास हो रहे हैं। सिद्धरामय्या खेमे ने योगेश्वर को कांग्रेस में लाने से होने वाले लाभ के संबंध में आलाकमान को जानकारी दी है।

दूसरी तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें विश्वास में लिए बगैर फैसले लेने पर सिद्धरामय्या पर नाराजगी जताई है।

गत विधानसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने डीके शिवकुमार के साथ मिल कर योगेश्वर को पराजित किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned