घर में पड़ा था बेटे का शव तभी हेल्पलाइन से आई कॉल और हो गया कमाल

  • लोग कह रहे वाह-वाह

By: Santosh kumar Pandey

Published: 16 Jun 2021, 02:41 PM IST

बेंगलूरु. कोरोना महामारी के समय में एक ओर जहां इंसानियत को शर्मसार करने वाली खबरें आती रही हैं वहीं कुछ खबरें ऐसी भी हैं जो मानवता के प्रति हमारी आस्था को और मजबूत कर जाती है।

मैसूरु के एक एम्बुलेंस चालक ने कर्तव्य पालन की एक ऐसी मिसाल पेश की है जिसके बारे में सुनकर लोग वाह-वाह कर रहे हैं। खौलते पानी में गिर जाने के कारण एम्बुलेंस चालक मुबारक के पुत्र की मौत हो गई थी। दिल दहलाने वाली इस घटना से मोहल्ले के लोग भी सदमे में थे। मुबारक के परिवार पर तो जैसे दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था। घर में कोहराम मचा था तभी हेल्प लाइन से कॉल आई जिसमें शहर के सिगमा अस्पताल से एक मरीज को तत्काल चामराजनगर ले जाने की जरूरत बताई गई। मरीज को चामराजनगर में अस्पताल में भर्ती कराना था।

एम्बुलेंस चालक ने आंसुओं को पोछते हुए रोते-बिलखते परिजनों को पीछे छोड़ अस्पताल का रुख किया और कर्तव्य पालन करते हुए मरीज को अस्पताल तक पहुंचाया। उसके बेटे की मौत की खबर सुनकर अस्पताल वाले भी आश्चर्य चकित हो गए।
बताया जाता है कि मुबारक जीवन धारा ब्लड बैंक के लिए काम करता है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned