कर्नाटक : नियमों का उल्लंघन कर बनवाया था स्विमिंग पूल

- पूर्व जिलाधिकारी सिंधूरी की अनियमितताओं के बारे में सीएस ने सरकार को रिपोर्ट भेजी

By: Nikhil Kumar

Published: 10 Jun 2021, 07:45 PM IST

बेंगलूरु. मैसूरु की पूर्व जिलाधिकारी रोहिणी सिंधूरी की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। निगम आयुक्त शिल्पा नाग के साथ विवाद के बाद मैसूरु से हटाई गई सिंधूरी पर अनियमितताओं के कई आरोप लग रहे हैं। मुख्य सचिव रवि कुमार ने इस संबंध में सरकार को एक रिपोर्ट दी है, जिसमें कहा गया है कि सिंधूरी ने जिलाधिकारी रहते बिना किसी की अनुमति लिए अपने सरकारी आवास में स्विमिंग पूल और जिम बनवाए। विवाद के बाद नाग का भी तबादला कर दिया गया था।

मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा को मंगलवार को दी गई रिपोर्ट में सिंधूरी के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। मैसूरु के जिलाधिकारी का सरकारी बंगला विरासती भवनों की सूची में शामिल है। सिंधूरी ने वहां अपने अधिकारों का दुरुपयोग और नियमों का उल्लंघन करते हुए स्विमिंग पूल और जिम बनवाया। हालांकि, सिंधूरी ने संभागीय आयुक्त जी सी प्रकाश को इस संबंध में बताया था कि स्विङ्क्षमग पूल या जिम बनने से सरकारी संपत्ति को कोई नुकसान नहीं हुआ था।

रिपोर्ट में बताया गया है कि बंगले में 28.72 लाख रुपए खर्च कर 650 वर्ग फीट की जगह में 60 हजार लीटर पानी की क्षमता वाले स्विमिंग पूल का निर्माण किया गया। इसके लिए नगर निगम से अनुमति नहीं ली गई। वाणिविलास जलापूर्ति विभाग से भी पानी इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं ली गई। बंगला के विरासती सूची में शामिल होने के कारण किसी भी निर्माण के लिए विरासत संरक्षण समिति से भी अनुमति की जरूरत है। मैसूरु विकास प्राधिकरण से भी अनुमति नहीं ली गई।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned