शिक्षक ने ऐसा काटा कान कि वह चीख पड़ी

आरोपी शिक्षक गिरफ्तार

By: Santosh kumar Pandey

Published: 16 May 2020, 06:36 PM IST

बेंगलूरु. समाज के निर्माण में शिक्षकों की भूमिका बेहद अहम होती है। उनका आचरण समाज के लिए एक उदाहरण की तरह होता है और वे भविष्य निर्माण में सबसे उपयोगी भूमिका निभाते हैं। लेकिन यहां मामला थोड़ा अलग निकला। एक शिक्षक ने कान काट लिए।

विजयपुर पुलिस ने एक सिपाही और तहसीलदार पर हमला करने के आरोप में सरकारी हाई स्कूल के शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार विजयपुर जिला प्रशासन ने अन्य राज्यों से आने वाले प्र्रवासी श्रमिकों को क्वारंटाइन कराने के लिए सरकारी अस्पतालों, निजी होटलों और सरकारी छात्रावासों को क्वारंटाइन केंद्रों में बदला गया है। विजयपुर के महल ऐनापुर नामक बंजारों की बस्ती में निर्मित सामुदायिक भवन को संस्थागत क्वारंटाइन केंद्र में बदलने का फैसला किया गया।

भवन का निरीक्षण करने तहसीलदार मोहन कुमारी राजस्व विभाग के कुछ अधिकाारियों और सुरक्षा कर्मी सिपाही बाबू कड़णी के साथ गई थीं।
समुदाय भवन को क्वारंटाइन केंद्र में बदलने का विरोध

बबलेश्वर सरकारी हाईस्कूल के शिक्षक सुेरश चव्हाण ने इस समुदाय भवन को क्वारंटाइन केंद्र में बदलने का विरोध किया और भवन को ताला लगाकर चाबी अपने पास रख ली। अधिकारियों ने सुरेश चव्हाण को समझाया कि सरकारी कामकाज में रुकावट डालने पर उसके खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है।

इस पर सुरेश चव्हाण ने तहसीलदार मोहन कुमारी पर हमला कर दिया और उन्हें बपशब्द कहे। सिपाही बाबू कड़णी ने बीच बचाव किया तो उसने बाबू का कान मुंह में भर कर दांतों से काट दिया।

मोहन कुमारी ने विजयपुर ग्रामीण पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने सुरेश चव्हाण को गिरफ्तार कर निलंबित कर दिया गया है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned