जांच से पहले कई अस्पतालों के चक्कर लगाता रहा कोरोना पॉजिटिव मरीज

-पी-419 से नौ अन्य संक्रमित
-18 में से 10 नए मरीज बेंगलूरु शहरी से
-445 पहुंची पॉजिटिव मरीजों की संख्या

By: Nikhil Kumar

Updated: 23 Apr 2020, 11:19 PM IST

बेंगलूरु. प्रदेश में गुरुवार को कोविड-19 के नए 18 मरीजों की पुष्टि हुई। इसके साथ ही कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 445 हो गई है। 18 में से 10 मामलों की पुष्टि अकेले बेंगलूरु शहरी में हुई है।

एक मरीज पी-444 को छोड़ सभी मरीज, पुराने मरीज पी-419 के सीधे संपर्क में आने से संक्रमित हुए हैं। सभी मरीज (पी-433 से लेकर पी-441) की उम्र 41 वर्ष से कम है और सभी मरीज पुरुष हैं। पी-419 की उम्र 54 वर्ष है। उसके बुधवार को ही कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी। सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन के कारण उसे राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ चेस्ट डिसीजेज में भर्ती किया गया था। लेकिन यहां भर्ती होने से पहले वह कई अस्पतालों के चक्कर लगाता रहा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार (पी-419) सबसे पहले 18 अप्रेल को वह वेणु स्वास्थ्य केंद्र, 19 अप्रेल को जयदेव हृदय रोग संस्थान, फिर 20 अप्रेल को विक्टोरिया अस्पताल गया था। यहां से चिकित्सकों ने उसे राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ चेस्ट डिसीजेज (आरजीआईसीएच) भेजा था। 20 अप्रेल को आरजीआईसीएच पहुंचने पर चिकित्सकों ने उसे भर्ती कर कोरोना वायरस जांच के लिए नमूने भेजे थे। हालांकि स्वाथ्य विभाग इन सभी तथ्यों की जांच कर रहा है। रिपोर्ट के अनुसार आगे की रणनीति तय होगी।

184 क्वारंटाइन
चिकित्सा शिक्षा व कोविड मामलों के मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने गुरुवा र को होंगसंद्रा का दौरा किया। उन्होंने कहा कि मरीज (पी-419) के संपर्क में आए सभी लोगों को चिन्हित करने का प्रयास जारी है। उस ऑटो चालक की भी पहचान की गई है जिसमें मरीज अस्पताल गया था। ऑटो चालक की पत्नी और बच्चों को भी क्वारंटाइन किया गया है। इस मरीज के सामने आने के बाद होंगसंद्रा को सील किया गया है क्योंकि मरीज यहीं रहता था। उसने कई दुकानों से सामान खरीदा था। इसके संपर्क में आने वाले कुल 184 लोगों को चिन्हित कर क्वारंटाइन केंद्र भेजा गया है। डॉ. सुधाकर ने बताया कि यहां रह रहे सभी लोगों के जांचने की योजना है।

200 दिहाड़ी मजदूर
पार्षद भारती रामचंद्र ने बताया कि पी-419 बिहार से है। दिहाड़ी मजदूर है। इसी इलाके में बिहार के करीब 200 दिहाड़ी मजदूर रहते हैं। इलाके की आबादी करीब एक हजार है। बेंगलूरु शहरी में मिले 4 1 वर्षीय 10वें मरीज (पी-444), पुराने मरीज (पी-252) के कारण संक्रमित हुआ।

13 वर्षीय बालिका भी मरीजों में
विजयपुर में दो, धारवाड़ में दो, मंड्या में दो और दक्षिण कन्नड़ व कलबुर्गी जिले में एक-एक मरीज की पुष्टि हुई है। धारवाड़ के दो मरीजों में एक 13 वर्षीय बालिका (पी-431) है। जबकि दूसरी महिला मरीज (पी-430) की उम्र 30 वर्ष है। दोनों पुराने मरीज (पी-236) की प्राथमिक संपर्क के कारण संक्रमित हो गईं।

मंड्या में सामने आए दो मरीजों में से एक पुरष मरीज (पी-442) की आयु 47 वर्ष है। पुराने मरीज (पी-171 और पी-़173) के कारण वह संक्रमित हुआ। जबकि 28 वर्षीय महिला मरीज (पी-443) एक अन्य मरीज (पी-173) के कारण संक्रमित हो गई।

35 वर्षीय पुरुष मरीज (पी-173) में आठ अप्रेल को वायरस की पुष्टि हुई थी। पी-173 में सक्रमण का कारण था 38 वर्षीय मरीज (पी-138)। चार अप्रेल के जांच रिपोर्ट में इस मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। पी-138 दिल्ली की यात्रा से लौटा था। दक्षिण कन्नड़ जिले में 78 वर्षीय महिला मरीज एक अन्य मरीज (पी-390 ) के कारण संक्रमण की जद में आ गई।
मरीज (पी-413) के कारण कलबुर्गी जिले में 32 वर्षीय मरीज पी-445 संक्रमित हो गया।

लाइसेंस रद्द
प्रदेश सरकार ने पी-419 मामले में होंगसंद्रा स्थित वेणु स्वास्थ्य केंद्र का लाइसेंस रद्द कर दिया है। डॉ. सुधाकर ने बताया कि वायरस के लक्षणों के साथ मरीज सबसे पहले 18 अप्रेल को वेणु स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा था। दिशा-निर्देशों के बावजूद इस स्वास्थ्य केंद्र ने प्रशासन को मरीज की जानकारी नहीं दी। स्वास्थ्य केंद्रों को सील कर दिया गया है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned