गांधी के वेश में सैकड़ों किमी पैदल चले यह सज्जन

महात्मा गांधी के संदेशों के प्रचार के लिए गदग जिले के रोण तहसील के कर्किकट्टी गांव निवासी मुत्तण्णा तरलापुर बापू के वेश में सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा कर बेंगलूरु पहुंचे हैं।

बेंगलूरु. महात्मा गांधी के संदेशों के प्रचार के लिए गदग जिले के रोण तहसील के कर्किकट्टी गांव निवासी मुत्तण्णा तरलापुर बापू के वेश में सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा कर बेंगलूरु पहुंचे हैं।

मुत्तण्णा ने गदग से बेंगलूरु तक की पदयात्रा पूरी करने के पश्चात राज्य के मुख्य सचिव टीएम विजयभास्कर को ज्ञापन पत्र सौंपा। मुत्तण्णा के मुताबिक उन्होंने 11 अक्टूबर को कर्किकट्टी गांव से पदयात्रा शुरू की।
उसके पश्चात रोण, गदग, मुंडरगी, कोट्टूर, जगलूरु, हिरियूर, चित्रदुर्गा, सिरा, तुमकूरु होते हुए बेंगलूरु पहुंचे हैं।

उसके पश्चात बेंगलूर विधानसभा परिसर में स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास उन्होंने पदयात्रा का समापन किया। राज्य के मुख्य सचिव को सौंपे ज्ञापन में उन्होंने गोहत्या पर प्रतिबंध, पर्यावरण की रक्षा, शराब पर प्रतिबंध, स्वच्छता अभियान महादयी योजना पूरी करने की मांग रखी है।

उन्होंने बताया कि उनकी इतनी लम्बी पदयात्रा का उद्देश्य महात्मा गांधी के संदेशों का प्रचार करना और जनता में जागरूकता पैदा करना था।

Santosh kumar Pandey
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned