scriptThis time in the shadow of assembly elections, the budget can be attra | विधानसभा चुनावों के साए में इस बार लोक लुभावन हो सकता है बजट-सिंघवी | Patrika News

विधानसभा चुनावों के साए में इस बार लोक लुभावन हो सकता है बजट-सिंघवी

आम बजट 2022 से उम्मीदें

बैंगलोर

Published: January 19, 2022 07:57:32 am

योगेश शर्मा
बेंगलूरु. संसद में एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट पर इस बार भी कोरोना का साया रह सकता है। देश के पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की झलक इस बजट में साफ दिखेगी वहींं ये बजट लोकलुभावन हो सकता है। केन्द्रीय बजट को लेकर बेंगलूरु के जाने माने चार्टर्ड अकाउंटेंट, कर विशेषज्ञ व उद्यमी एफ.आर.सिंघवी ने पत्रिका से विशेष बातचीत में वर्तमान काल को लेकर केन्द्रीय बजट से अपेक्षा पर अपने विचार साझा किए।
सिंघवी ने कहा कि कोविड ने धनवानों और वंचितों के बीच की खाई को और बढ़ा दिया है। एमएसएमई क्षेत्र, व्यापारियों और छोटे सेवा केंद्रों को बड़े उद्यमों, ई-कॉमर्स संस्थाओं द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। प्रस्तावित श्रम सुधार और न्यूनतम मजदूरी में वृद्धि को ठंडे बस्ते में रखा गया है और यह सुनिश्चित नहीं है कि यह कब लागू होगा। जीएसटी एक स्व-पुलिसिंग कानून होने के कारण कानून की अनुपालन में आसानी लाने के लिए था, जो अब तक कहीं नजर नहीं आता है।
सिंघवी ने कहा कि हमारे लिए 5 ट्रिलियन यूएसडी जीडीपी तक पहुंचने के लिए हमारे कारोबार और निर्यात को दोहरे अंकों में बढऩे की जरूरत है और साथ ही हमारे एमएसएमई और छोटे व्यापारियों को भी फलने-फूलने की जरूरत है। यह दुनिया भर के देशों द्वारा ‘मेक इन इंडिया’ पहल के समान स्थानीयकरण के कारण निर्यात के अधिक कठिन होने के अवसर को ध्यान में रखते हुए प्राप्त किया जाना है। हमें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि विकास करते समय हम कार्बन फुटप्रिंट को कम करके अपने पर्यावरण में सुधार करें।
इसलिए, हमारी नीतियों को जीएसटी दरों, अस्वीकरणों और इसके अनुपालन को कम करके और सुव्यवस्थित करके विकास के साथ जोड़ा जाना चाहिए। एमएसएमई के वित्तपोषण को आसान बनाया जाए और अन्य मामलों में उनका पोषण किया जाए। कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लाभ के लिए किए जाने वाले श्रम सुधार। उच्च मजदूरी सुनिश्चित करते हुए इसे उच्च उत्पादकता को बढ़ावा देना चाहिए जिससे विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी होने के लिए माल की लागत कम हो।
उपरोक्त सुझावों का पालन व्यक्तियों के लिए आयकर को कम करके और वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए और भी अधिक करके व्यक्तिगत खपत को बढ़ावा देने वाली वृद्धि में किया जाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि नीतियों को बुनियादी ढांचे के विकास के तेजी से कार्यान्वयन में मदद करनी चाहिए। एक अन्य प्रमुख क्षेत्र त्वरित निर्णय के लिए न्यायपालिका में सुधार की आवश्यकता है। यह न केवल मुद्दों को हल करेगा और गति देगा। बल्कि नए मामलों में भारी कमी लाने में मदद करेगा। एक उदाहरण देने के लिए यदि एक कर चोरों को पकड़ा जाता है और थोड़े समय में दंडित किया जाता है तो यह अन्य अपराधियों मन में कानून तोडऩे के लिए भय पैदा करेगा। यदि जनहित में भूमि अधिग्रहण का निर्णय अल्प अवधि में पूरा हो जाता है तो सरकार की नीतियां अधिक प्रभावी हो जाएंगी और साथ ही मामलों में कमी आएगी।
उन्होंने कहा कि सरकार को नई प्रौद्योगिकियों के लिए और लंबी अवधि के लिए उच्च प्रोत्साहन प्रदान करना चाहिए। डीमेट खातों और शेयरों के व्यापार में हालिया वृद्धि एक स्वागत योग्य बदलाव है और सरकार को छोटे निवेशकों के लिए आवास ऋण के समान कर छूट प्रदान करके प्रोत्साहित करना चाहिए।
देश के तेजी से विकास के लिए सरकार की मंशा संदेह में नहीं है। हालांकि, इसके क्रियान्वयन के लिए सरकार की मंशा समय रेखा, कार्यप्रणाली और लागत के लिहाज से एक चुनौती है। इसे विशेष रूप से बुनियादी ढांचे के विकास या कानूनों के अधिनियमन के संबंध में युक्तिसंगत बनाने की आवश्यकता है। श्रम कानून और जीएसटी कानूनों के संबंध में ऐसे ही दो उदाहरण हैं। देश भर में लंबित बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के बारे में सभी जानते हैं। हमें नागरिकों के रूप में भी कानूनों का पालन करने, गुणवत्ता और लागत प्रतिस्पर्धी वस्तुओं का उत्पादन करने और सभी समावेशी विकास की अपनी जिम्मेदारियों को निभाने की जरूरत है। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि सरकार की तमाम कमियों के बावजूद हम दुनिया की सबसे अधिक बढ़ती अर्थव्यवस्था हैं। हम सब कुछ सरकार पर नहीं छोड़ सकते हैं और सुशासन का पालन किए बिना केवल खुद को समृद्ध करने के लिए देख सकते हैं।
विधानसभा चुनावों के साए में इस बार लोक लुभावन हो सकता है बजट-सिंघवी
विधानसभा चुनावों के साए में इस बार लोक लुभावन हो सकता है बजट-सिंघवी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टपूनियां हत्याकांड में बड़ा अपडेट : चौथे दिन भी नहीं हुआ पोस्टमार्टम, शव उठाने को लेकर मृतक के भाई के घर पर चस्पा किया नोटिसहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का साया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.