इस वर्ष तमिलनाडु को बहा कावेरी का सबसे अधिक पानी

कावेरी नदी के जल संग्रहण क्षेत्र में बीते मानसून सत्र में पर्याप्त बारिश होने के कारण तमिलनाडु की ओर केवल दो माह में ही 300 टीएमसी से अधिक पानी बह गया है।

By: Ram Naresh Gautam

Published: 30 Dec 2018, 06:32 PM IST

बेंगलूरु. कावेरी नदी के जल संग्रहण क्षेत्र में बीते मानसून सत्र में पर्याप्त बारिश होने के कारण तमिलनाडु की ओर केवल दो माह में ही 300 टीएमसी से अधिक पानी बह गया है। गत दो वर्षों से तमिलनाडु को केवल 50-60 टीएमसी पानी मिला था, ऐसे में अबकि बार तमिलनाडु को 395 टीएमसी पानी मिलना यह अब तक का रेकार्ड है। कावेरी नदी जल बंटवारा पंचाट के अंतिम फैसले के तहत तमिलनाडु को 177 टीएमसी पानी आंवटित किया गया है।
कावेरी जल निगम के सूत्रों के मुताबिक गत 10 वर्षों के दौरान 4 वर्षों में कावेरी के पानी को लेकर कर्नाटक-तमिलनाडु के बीच तनाव रहा है। पर्याप्त बारिश नहीं होने के कारण वर्ष 2012-13 में 100 टीएमसी, वर्ष 2015-16 में 156 टीएमसी, वर्ष 2016-17 में 69 टीएमसी पानी की आपूर्ति संभव हुई थी। उसके पश्चात वर्ष 2007 से वर्ष 2012 तक अच्छी बारिश होने के कारण कोई समस्या नहीं हुई है।
कावेरी जलबहाव क्षेत्र के केआरएस, हेमावती, हारंगी तथा कबिनी इन चार बांधों में इस वर्ष 512 टीएमसी पानी संग्रहित हुआ है। इसमें से तमिलनाडु की ओर 395 टीएमसी पानी का बहाव हुआ है। राज्य के किसानों को सिंचाई के लिए नहरों में 117 टीएमसी पानी प्रवाहित किया गया है। इस वर्ष अच्छी बारिश के कारण जुलाई माह में तमिलनाडु के लिए 124 टीएमसी तथा दिसम्बर में 31 टीएमसी पानी बहा है। दिसम्बर में कावेरी जलबहाव क्षेत्र के बांधों में 64 टीएमसी पानी का भंडारण हुआ है। गत वर्ष इसी कार्यकाल में इन बांधों में 52 टीएमसी पानी संग्रहित था।
बांधों में पानी का संग्रह
केआरएस 36 .38 टीएमसी
हेमावती 10.6 5 टीएमसी
हारंगी 02.53 टीएमसी
कबिनी 15.04 टीएमसी
तमिलनाडु की ओर प्रवाहित पानी
जून 013.29 टीएमसी
जुलाई 124.06 टीएमसी
अगस्त 176 .51 टीएमसी
सितम्बर 036 .76 टीएमसी
अक्टूबर 027.02 टीएमसी
नवम्बर 014.58 टीएमसी
दिसम्बर 007.35 टीएमसी

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned