उम्मीदवार चयन के लिए भाजपा की 3 दिवसीय बैठक शुरू

उम्मीदवार चयन के लिए भाजपा की 3 दिवसीय बैठक शुरू

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Apr, 05 2018 12:42:53 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

अमित शाह 8-9 अप्रैल को फिर आएंगे कर्नाटक के प्रवास पर

बेंगलूरु. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष 8-9 अप्रेल को फिर यहां आएंगे और इसी दौरान वे पार्टी के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर सकते हैं। शाह ने मंगलवार को राज्य का हवाई दौरा किया था।

पार्टी सूत्रों के अनुसार उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया के तहत बीएस येड्डियूरप्पा, केएस ईश्वरप्पा, केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार, प्रकाश जावड़ेकर , पीयूष गोयल सहित प्रदेश कोर कमेटी के अन्य सदस्यों ने बुधवार को पुट्टनहल्ली के पास एक रिजोर्ट में दिन भर बैठक की। उम्मीदवारों के चयन की यह प्रक्रिया तीन दिन तक चलेगी और इस दौरान पार्टी बेंगलूरु के 14 सहित 73 उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप दे सकती है। उम्मीदवारों की सूची को अंतिम स्वीकृति शाह देंगे।

बैठक में नेताओं ने टिकट के लिए आवेदन करने वालों के बारे में जिला व मंडल अध्यक्षों से पूर्व विवरण एकत्रित लेना शुरू कर दिया है। लेकिन सूची को अंतिम रूप देना आसान नहीं होगा क्योंकि मतभेद पहले से उभर रहे हैं। विशेष रूप से खनन उद्यमी जनार्दन रेड्डी के साथ भाजपा का कोई सरोकार नहीं होने के भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयान व उनको टिकट देने से इनकार करने पर कड़ी आपत्ति की गई है। जनार्दन रेड्डी भी अपने प्रभाव वाले बल्लारी से फिर चुनाव लडऩे के इच्छुक बताए जाते हैं।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को पहली बार दक्षिण भारत में सत्ता में लाने में रेड्डी बंधुओं ने अहम भूमिका निभाई थी। लेकिन अवैध खनन के मामले में जनार्दन रेड्डी के लंबे समय तक जेल में बंद रहने के बाद भाजपा के नेता हरेक कदम फूंक- फूंक कर उठा रहे हैं क्योंकि चुनाव से पहले जनार्दन रेड्डी को दुबारा पार्टी से जोडऩे से कांग्रेस को भाजपा के खिलाफ बैठे बिठाए मुद्दा मिल सकता है और इससे भाजपा की चुनावी खेल संवरने के बजाय बिगड़ सकता है।


हालांकि जन सभाओं में कुछ उम्मीदवारों के नाम घोषित करने के लिए शाह ने येड्डियूरप्पा को खरी-खोटी सुनाई थी लेकिन ईश्वरप्पा को शिवमोग्गा से टिकट देने के उनके अपने बयान से ही शिवमोग्गा भाजपा में बैचेनी पैदा हो गई है और पार्टी के जिला अध्यक्ष रुद्रेगौड़ा इसका विरोध कर रहे हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में ईश्वरप्पा ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था और गौड़ा ने येड्डियूरप्पा की पार्टी केजेपी से चुनाव लड़ा और इस संघर्ष में ईश्वरप्पा फिसलकर चौथेे स्थान पर रहे थे।

इसी तरह ऐसे अन्य कई विधानसभा क्षेत्र हैं जहां चयनकर्ताओं को सूची को अंतिम रूप देने से पहले पूरी सावधानी बरतनी होगी क्योंकि किसी प्रकार के मतभेद उभरने या बगावत होने की स्थिति में पार्टी के 150 सीटों पर जीत हासिल करने के लक्ष्य को चोट पहुंच सकती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned