scriptTo bear the pain of breaking expectation is the destiny of man - Achar | अपेक्षा भंग होने की पीड़ा सहना मनुष्य की नियति-आचार्य देवेंद्रसागर | Patrika News

अपेक्षा भंग होने की पीड़ा सहना मनुष्य की नियति-आचार्य देवेंद्रसागर

धर्मसभा

बैंगलोर

Published: February 21, 2022 08:04:35 am

बेंगलूरु. बसवनगुड़ी के जिनकुशलसूरि दादावाड़ी में आयोजित धर्मसभा में आचार्य देवेंद्रसागर सूरी ने कहा कि संसार में कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं होगा, जिसे कभी न कभी, किसी न किसी से कोई अपेक्षा नहीं रही होगी। मानव जीवन में सभी को अपेक्षाएं रहती हैं, लेकिन अपेक्षा का बदला उपेक्षा किसी को न मिले। ऐसा कदाचित ही होता है। जब व्यक्ति की अपेक्षाएं पूर्ण हो जाती हैं तो वह आनंदित हो जाता है, लेकिन जब उसकी अपेक्षाएं भंग होती हैं अथवा पूरी नहीं होती है तो वह अंदर से टूट जाता है। उसे आघात लगता है, वह पीडि़त हो जाता है। यह जरूरी नहीं कि व्यक्ति की सारी अपेक्षाएं पूर्ण हो ही। साथ ही मानव के लिए यह भी संभव नहीं है कि अपेक्षाएं रखे ही न। अपेक्षाओं के बूते पर ही तो वह आगे बढ़ता है। अपेक्षाओं के अभाव में जीवन व्यर्थ है। अपेक्षाएं मन का मोह है। चाहे व्यक्ति की अपेक्षाएं पूरी न हों, परन्तु वह अपेक्षा रखता जरूर है। अपेक्षा भंग होने की पीड़ा सहना उसकी नियति है। माता-पिता बच्चों से, बच्चे माता-पिता से, पति, पत्नी से, पत्नी, पति से, गुरु, शिष्य से, शिष्य, गुरु से दोस्त को दोस्त से अपेक्षाएं रहती ही हैं। उन्होंने कहा कि अपनों से अपेक्षाएं होना होता मानवीय स्वभाव का हिस्सा है. पर ये अपेक्षाएं आप के दुख का कारण न बनें, इसके लिए इन की सीमा निर्धारित करें, फिर भी अगर कोई व्यक्ति अपनी लाइफ में खुश रहना चाहता है तो किसी से ज्यादा अपेक्षा न करे. हमें किसी से भी कोई अपेक्षा रखे बिना ही जीने की आदत डालनी चाहिए, तभी हमारी सभी समस्याएं अपने आप खत्म हो जाएंगी. यह एक कठिन कार्य है पर इस के लिए एक छोटी सी कोशिश तो की ही जा सकती है। ज्यादा अपेक्षा रखना खुद को तनाव में डालना है क्योंकि एक के बाद एक अपेक्षाओं का ग्राफ बढ़ता ही जाता है। जीवन में बहुत सारे दुखों का कारण भी अपेक्षा ही है। मनुष्य का यह स्वभाव है कि वह हर किसी से अपेक्षा करता है और कभी कभी ये अपेक्षाएं जरूरत से ज्यादा हो जाती हैं। ऐसा होने से जब हमें हमारी ये अपेक्षाएं पूरी होती नहीं दिखाई देतीं तब क्रोध, क्षोभ, निराशा और दुख हमारे साथी बन जाते हैं।
अपेक्षा भंग होने की पीड़ा सहना मनुष्य की नियति-आचार्य देवेंद्रसागर
अपेक्षा भंग होने की पीड़ा सहना मनुष्य की नियति-आचार्य देवेंद्रसागर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का साया30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवाल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.