भविष्यवाणी करनी है तो येड्डियूरप्पा राजनीति छोडक़र ज्योतिषी बन जाएं

भविष्यवाणी करनी है तो येड्डियूरप्पा राजनीति छोडक़र ज्योतिषी बन जाएं

Santosh Kumar Pandey | Publish: May, 04 2019 04:15:58 PM (IST) | Updated: May, 04 2019 04:16:00 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

कांगे्रस विधायक दल के नेता सिद्धरामय्या ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डियूरप्पा के बयानों को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति हाल ही में तीन दिन तक भी मुख्यमंत्री नहीं रहा हो वह कांग्रेस के उम्मीदवारों के बारे में भविष्यवाणी करने वाला कौन होता है। अगर भविष्यवाणी ही करनी है तो येड्डियूरप्पा राजनीति छोडक़र ज्योतिषी बन जाएं।

बेंगलूरु. कांगे्रस विधायक दल के नेता सिद्धरामय्या ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डियूरप्पा के बयानों को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति हाल ही में तीन दिन तक भी मुख्यमंत्री नहीं रहा हो वह कांग्रेस के उम्मीदवारों के बारे में भविष्यवाणी करने वाला कौन होता है। अगर भविष्यवाणी ही करनी है तो येड्डियूरप्पा राजनीति छोडक़र ज्योतिषी बन जाएं।

सिद्धरामय्या ने शुक्रवार को कुंदगोल विधानसभा क्षेत्र के शंसी क्षेत्र में पार्टी उम्मीदवार कुसुमावती शिवल्ली के समर्थन में जन सभा में कहा कि सबसे पहले येड्डियूरप्पा को अपनी चिंता करने की जरूरत है। उन्हें मालूम नहीं कि उनके पीछे भाजपा के नेता कई तरह के षड्यंत्र कर रहे हैं। येड्डियूरप्पा ने मल्लिकार्जुन खरगे, केएच मुनियप्पा समेत कई उम्मीदवारों हारने की भविष्यवाणी की है।

लोकसभा चुनाव के परिणाम के बाद येड्डियूरप्पा की कोई अहमियत नहीं रहेगी। उन्हें पार्टी अध्यक्ष और विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष के पद से भी हटाया जाएगा। खुद भाजपा के नेता येड्डियूरप्पपा को मुख्यमंत्री के तौर पर नहीं देखना चाहते। मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा में एक नहीं, बल्कि एक दर्जन से अधिक दावेदार हैं। येड्डियूरप्पा का मुख्यमंत्री का सपना कभी भी पूरी नहीं होगा। प्रदेश की जनता कभी भी भाजपा को सत्ता में देखना पसंद नहीं करेगी। भाजपा को प्रशासन करने मौका मिला था, लेकिन तब क्या हुआ था, सभी को पता है। तीन मुख्यमंत्री बनें और एक षड्यंत्र के तहज भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने ही येड्डियूरप्पा के जेल भिजवाया था। पांच साल की अवधि मेें सरकारी राजकोष लूटा गया। कई मंत्री जेल जाकर आए थेे।

उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी का फिर से प्रधानमंत्री बनने का सपना भी पूरा नहीं होगा। मोदी झूठ बोलने में माहिर हैं और उन्हें झूठों के सरदार का पुरस्कार देना उचित रहेगा। नरेंद्र मोदी चुनाव से पहले घोषित वादों में से एक भी पूरा नहीं किया। ऊपर से नोटबंदी कर कई करोड़ छोटे और मध्यम वर्ग के व्यापारियों को आर्थिक संकट में डाल दिया। जीएसटी से देश की आर्थिक स्थिति कमजोर होने लगी है। मोदी ने नोटबंद कर भाजपा के नेताओं के काले धन को सफेद में परिवर्तित करने का अवसर दिया था। मोदी सरकार भी भ्रष्टाचार में लिप्त है।

बैंकों को करोड़ रुपए लेकर उद्योगपति विदेश भाग गए। मोदी केवल मन की बात करते हैं, टीवी पर भाषाण देते हैं, आज तक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया का सामना नहीं किया।

उन्होंने कहा कि केन्द्र में जब तक भाजपा की सरकार रहेगी। भारत के संविधान को हमेशा खतरा रहेगा। भाजपा नेता संविधान में संशोधन और इसे खत्म करने की बातें कर रहे हैं। इस विषय मोदी का मंशा क्या है? इसका स्पष्टीकरण देना होगा। मोदी अपनी सरकार की उफलब्धि के बजाय केवल सर्जिकल स्ट्राइक, अंतरिक्ष में उपग्रह को नष्ट करने की ही बातें करते हैं।

उप मुख्यमंत्री डॉ. जी परमेश्वर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव, प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खंड्रे, प्रचार समिति के अध्यक्ष एचके पाटिल, मंत्री डीके शिवकुमार सहित नेता और कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned