scriptTo remove ignorance, the company of a monk is necessary - Acharya Mahe | अज्ञान दूर करने के लिए साधु का संग जरूरी-आचार्य महेन्द्रसागर | Patrika News

अज्ञान दूर करने के लिए साधु का संग जरूरी-आचार्य महेन्द्रसागर

धर्मसभा का आयोजन

बैंगलोर

Published: January 05, 2022 07:40:37 am

बेंगलूरु. नाकोड़ा पाश्र्वनाथ जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ राजाजीनगर में विराजित आचार्य महेंद्रसागर सूरी ने कहा कि अज्ञान दूर करने के दो साधन हैं। साधु का संग और संतवाणी का श्रवण पुण्य से मिलता है। जीवन में साधु समागम। साधु के समागम और दर्शन से होता है, जीवन मंगलमय। जो शुभ और शुद्ध भाव से साधु के दर्शन को पाता है। वह मोहनीय कर्म का क्षय करता है। मन की आधी तन की व्याधि और बाहर की उपाधि इन तीनों से बचने के लिए साधु का समागम चाहिए। दर्शन मोहनीय कर्म को क्षय करने के लिए वीतराग परमात्मा के दर्शन करने चाहिए। आराधना करनी चाहिए और चारित्र मोहनीय कर्म का क्षय करने के लिए साधु के दर्शन करने चाहिए। सुमतिनाथ जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ रायचूर के प्रतिनिधि मंडल ने मंगलवार को आचार्य महेंद्रसागर सूरी, मुनि राजपद्मसागर, मुनि मेरुपद्मसागर व मुनि अर्हमपद्मसागर के दर्शन वंदन का लाभ लिया। इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल ने सुमतिनाथ जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ के रजत जयंती महोत्सव एवं गुरु गौतम स्वामी एवं माता पद्मावती की प्रतिष्ठा के महोत्सव में मिश्रा प्रदान करने के लिए आचार्य से विनती की। इस अवसर पर ट्रस्टी राजूभाई देसाई, अशोक खिंवेसरा, अनिल चौरडिय़ा, जितेंद्र, अश्वनी भाटिया, विनोद नाहर, कैलाश चोरडिय़ा आदि उपस्थित थे।
अज्ञान दूर करने के लिए साधु का संग जरूरी-आचार्य महेन्द्रसागर
अज्ञान दूर करने के लिए साधु का संग जरूरी-आचार्य महेन्द्रसागर
सुशीला त्रिशला महिला मंडल अध्यक्ष मनोनीत
बेंगलूरु. वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ राजाजीनगर में त्रिशला महिला मंडल की वार्षिक बैठक में नए पदाधिकारियों का चयन किया गया। अध्यक्ष पद पर सुशीला बाई बोहरा चुनी गईं। निवर्तमान अध्यक्ष सायर बाई लोढ़ा ने उनका सम्मान किया। मंत्री रेखा पोकरणा का निवर्तमान मंत्री कांता बागरेचा ने सम्मान किया। कोषाध्यक्ष बबीता कुंकंलोल का सम्मान हेमा लुंकड़ ने किया। अमृता बाई भलगट का स्वागत सीमा मेहता ने , नीतू सुराना का स्वागत रेखा डागा ने किया। बैठक का संचालन कांता बागरेचा ने किया।
हेमा लुंकड़ ने वार्षिक लेखा जोखा प्रस्तुत किया। शकुंतला मेहता, सरला दुगड़, पारसीबाई मेहता, उर्मिला लोढ़ा भी उपस्थित रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.