विषाक्त जल ने छीना जीवन, महिला की मौत

विषाक्त पानी पीने से एक महिला की मौत हो गई जबकि ८ अन्य को इलाज के लिए अस्पताल में दाखिल किया गया। आशंका जताईजा रही हैकि शरारती तत्वों ने पानी में तरल कीटनाशक मिला कर उसे जहरीला कर दिया।

By: Santosh kumar Pandey

Published: 10 Jan 2019, 08:49 PM IST

नौ लोगों की तीबयत बिगड़ी
सीएम ने जांच ने जांच के आदेश दिए
यादगीर. विषाक्त पानी पीने से एक महिला की मौत हो गई जबकि ८ अन्य को इलाज के लिए अस्पताल में दाखिल किया गया। आशंका जताईजा रही हैकि शरारती तत्वों ने पानी में तरल कीटनाशक मिला कर उसे जहरीला कर दिया।

जिले की केमभावी पुलिस ने बताया कि बुधवार शाम ६५ वर्षीय महिला होन्नम्मा की पानी पीने के बाद तबीयत खराब हो गई। शाम करीब ६ बजे उन्हें केमभावी पीएचसी में दाखिल कराया गया। स्थिति में सुधार नहीं होने पर गुरुवार तड़के होन्नम्मा को एम्बुलेंस से कलबुर्गी जिला अस्पताल ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया।
जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ हबीब उस्मान ने बताया कि बुधवार रात नौ लोगों को उपचार के लिए दाखिल कराया गया था, जिनमें से चार को गुरुवार सुबह छुट्टी दे दी गई। चार अन्य का उपचार चल रहा है। हबीब ने कहा कि घटना की सूचना मिलने के तुरंत बाद हमने मुदनूर, शेखपुर और तेग्गाल्ली गांवों के लोगों को दूषित पानी नहीं पीने को कहा गया है।

पाइपलाइन से टंकी तक पहंचा कीटनाशक
पुलिस ने बताया कि मुदनूर गांव में एक कुआं है जिससे पंप के जरिए पानी खींचकर दो पाइपों से टंकी में भरा जाता है। इसी टंकी से मुदनूर, शेखपुर और तेग्गाल्ली गांवों में पेयजल आपूर्ति की जाती है। पुलिस इंस्पेक्टर अजीत कुमार के अनुसार जब पुलिस ने टंकी की जांच की तो उससे बदबू आ रही थी। जिस पाइप से कुएं का पानी टंकी में जाता है, उसमें एक जगह रिसाव पाया गया। पुलिस को संदेह है कि किसी ने उसी जगह से तरल कीटनाशक पाइपलाइन में डाल दिया, जो टंकी तक पहुंच गया और पूरा पानी जहरीला हो गया। फोरेंसिक टीम ने गांव पहुंचकर कुएं और टंकी से पानी के नमूने लिए हैं ताकि पता चल सके कि पानी किस स्तर प्रभावित है।

सीएम ने दिए जांच के आदेश
इस बीच, मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए घटना की समग्र जांच के निर्देश दिए हैं। सुबह एक कार्यक्रम के दौरान सीएम ने कहा कि जो भी इस घटना के लिए जिम्मेदार पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाईकी जाएगी।

वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया जायजा
जिलाधिकारी कुर्मा राव, तहसीलदार सुरेश, जिला पंचायत की मुख्य कार्यकारी अधिकारी कविता मनिकेरे और अन्य अधिकारियों ने घटना स्थल पर जाकर हालात का जायजा लिया। तीनों गांव के लोगों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। माना जा रहा है कि पानी में आधा लीटर एंडो सल्फान कीटनाशक दवा मिलाई गई थी।

तीन गांवों की पेयजल आपूर्ति रोकी
टंकी का पानी विषाक्त होने की सूचना मिलने के बाद ग्राम पंचायत ने तत्काल तीनों गांवों में जल आपूर्ति रोक दी। शेखपुर ग्राम पंचायत सदस्य बाल्लप्पा के अनुसार गांवों में टैंकर से अस्थायी जल आपूर्ति की जा रही है। पुलिस ने हत्या और हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned