चार मरीज संभालेगा एक वेंटिलेटर

स्प्लिटर के इस्तेमाल से मौजूदा वेंटिलेटर एक से ज्यादा मरीजों के काम आ सकता है। कोविड के कारण वेंटिलेटर की मांग और आपूर्ति में काफी अंतर है।

By: Nikhil Kumar

Published: 16 Sep 2020, 06:43 PM IST

बेंगलूरु. गैर लाभकारी संगठन कोविड इंडिया कैंपेन और अप्लाइड मटेरियल इंडिया ने वेंटिलेटरों की कमी से निपटने के लिए मंगलवार को कम लागत वाले वेंटिलेटर स्प्लिटर (ventilator splitter) बनाने की घोषणा की। अप्लाइड मटेरियल इंडिया के प्रबंध निदेशक श्रीनिवास सत्या ने कहा कि स्प्लिटर के इस्तेमाल से मौजूदा वेंटिलेटर एक से ज्यादा मरीजों के काम आ सकता है। कोविड के कारण वेंटिलेटर की मांग और आपूर्ति में काफी अंतर है।

आइसीएटीटी फाउंडेशन के सह संस्थापक व कोविड इंडिया कैंपेन के कोर सदस्य डॉ. राहुल सिंह सरदार ने बताया कि स्प्लिटर्स की मदद से वेंटिलेटर की क्षमता को दो या चौगुना किया जा सकता है। यानी एक वेंटिलेटर दो या चार मरीजों के काम आ सकता है।

उन्होंने कहा कि करीब आठ लाख एक्टिव कोविड मरीजों के साथ भारत विश्व में तीसरे स्थान पर है। हालिया अध्ययनों के अनुसार इनमें से पांच फीसदी मरीजों को आइसीयू की आवश्यकता पड़ती है। देश में करीब 40 हजार वेंटिलेटर्स की सख्त जरूरत है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned