नियमों के उल्लंघन ने बेटी की जान ले ली

हाल ही में एक सड़क हादसे में अपनी 20 वर्षीय बेटी को खोने वाले कुमारस्वामी ने कहा कि नियमों के उल्लंघन ने बेटी की जान ले ली। नहीं चाहता की अन्य किसी को ऐसी मौत मिले। लोगों से अपील है कि यातायात नियमों से खिलवाड़ नहीं करें।

-मानव श्रृंखला बना सड़क हादसों के शिकार लोगों को याद किया
-दिया सड़क सुरक्षा का संदेश दिया

बेंगलूरु.

देश में हर वर्ष सड़क हादसों में 1.5 लाख लोगों की मौत होती है। जबकि अन्य पांच लाख लोग गंभीर रूप से चोटिल होते हैं। कर्नाटक की आबादी करीब 6.1 करोड़ है। हर साल देश भर में सड़क हादसों में घायल होने वालों में एक तिहाई हिस्सेदारी कर्नाटक की है। जबकि सड़क हादसों के मामलों में कर्नाटक देश भर में चौथे स्थान पर है। हाल ही में एक सड़क हादसे में अपनी 20 वर्षीय बेटी को खोने वाले कुमारस्वामी ने कहा कि नियमों के उल्लंघन ने बेटी की जान ले ली। नहीं चाहता की अन्य किसी को ऐसी मौत मिले। लोगों से अपील है कि यातायात नियमों से खिलवाड़ नहीं करें।

सेफर रोड़ बेंगलूरु अभियान के बैनर तले सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान, पद्मश्री स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और महारानी क्लस्टर विश्वविद्यालय ने शनिवार को सड़क यातायात पीडि़तों की याद में विश्व स्मृति दिवस (World Day of Remembrance for Road Traffic Victims) मनाया।

विद्यार्थियों और स्वास्थ्य पेशेवरों ने फ्रीडम पार्क से के. आर. चौराहे तक जागरूकता रैली निकाली। चौरोह पर मानव श्रृंखला बना सड़क हादसों के शिकार लोगों को याद किया और सड़क सुरक्षा का संदेश दिया।

सांसद पी. सी. मोहन (P. C Mohan) ने कहा कि प्रदेश में हर वर्ष सड़क हादसों में 10 हजार से ज्यादा लोगों की जान जाती है। 50 हजार से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल होते हैं। यातायात नियमों का पालन हो तो सड़क हादसों से बचा जा सकता है। विशेषकर युवाओं को चाहिए कि वे यातायात नियमों का पालन करें। प्रदेश सड़क सुरक्षा प्राधिकरण की उप निदेशक डॉ. आशा ए. ने कहा कि लोगों को सड़क हादसों से बचाने के लिए केंद्र सरकार ने मोटर वाहन अधिनियम को संशोधित कर जुर्माना राशि में वृद्धि की है।

सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान के निदेशक डॉ. उपेन्द्र भोजवानी ने यातायात नियमों की जानकारी दी। महारानी क्लस्टर विश्वविद्यालय के विशेष अधिकारी डॉ. एम. एस. रेड्डी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

Nikhil Kumar
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned