विश्वनाथ एक चालबाज नेता: सिद्धरामय्या

विश्वनाथ को स्वार्थी बताते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे महत्वाकांक्षी नेता को अब उपचुनाव में हराकर घर भेजने का समय आ गया है। विश्वानथ ने कंाग्रेस के साथ विश्वास घात किया। कई बार विधायक और सांसद बने और मंत्री बनने का अवसर भी मिला।


बेंगलूरु. नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या ने कहा कि भाजपा उम्मीदवार एच.विश्वनाथ एक चालबाज नेता हंै और उनकी किसी भीबात का विश्वास नहीं किया जा सकता। उन्होंने मंगलवार को हुंसूर विधानसभा क्षेत्र में पार्टी उम्मीदवार एचपी मंजुनाथ के समर्थन में चुनाव प्रचार करते हुए कहा कि विश्वनाथ को कोई भी राजनीतिक दल रास नहीं आता और उन्होंने दल बदल कर सभी पार्टियों के साथ विश्वासघात किया है।


विश्वनाथ को स्वार्थी बताते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे महत्वाकांक्षी नेता को अब उपचुनाव में हराकर घर भेजने का समय आ गया है। विश्वानथ ने कंाग्रेस के साथ विश्वास घात किया। कई बार विधायक और सांसद बने और मंत्री बनने का अवसर भी मिला।

उन्होंने कहा कि विश्वनाथ ने कांगे्रस में रहकर विपक्षी नेता के तौर पर काम किया था। वह हमेशा उनकी सरकार पर आरोप और कई टिप्पणियां करते थे। कांग्रेस मेें सब कुछ प्राप्त करने के बाद अपने स्वार्थ के लिए जनता दल एस में गए। वहां से टिकट लेकर सफलता प्राप्त की और पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष भी बनाया गया। उन्होंंने कहा कि विश्वनाथ अब लालच का शिकार होकर भाजपा में गए हैं। वह लोगों की समस्याओं को हल करने के बजाए मुंबई और हैदराबाद में मौज मस्ती करते रहे।


उन्होंने कहा कि विश्वनाथ ने दावा किया है कि उन्हें सफलता मिली तो वे हुणसूर को जिले का दर्जा दिलाएंगे। इससे पहले यह बात क्यों नहीं कही थी। इसके पीछे षढय़ंत्र छिपा है। उन्होंने कहा कि विश्वनाथ को डर है कि अगर वे सिद्धरामय्या की आलोचना करेंगे तो कुरुबा समुदाय के वोट से वंचित होना पड़ेगा। उसी कारण वे उनकी तारीफ कर वोट प्राप्त करना चाहते हैं।

Surendra Rajpurohit Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned