इस वजह से भाजपा की चिंता बढ़ी, केन्द्र को भेजी रिपोर्ट

इस वजह से भाजपा की चिंता बढ़ी, केन्द्र को भेजी रिपोर्ट
इस वजह से भाजपा की चिंता बढ़ी, केन्द्र को भेजी रिपोर्ट

Santosh Kumar Pandey | Updated: 12 Sep 2019, 04:37:42 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

BJP's concern increased after Vokkaliga community staged a major demonstration, report sent to center, Vokkaliga community against the arrest of senior Congress leader D.K. shivkumar, विरोध रैली ने भारतीय जनता पार्टी की चिंता बढ़ा दी है, केन्द्र सरकार व भाजपा पर वोक्कालिगा समुदाय को निशाना बनाने का आरोप लगाया

बेंगलूरु. कांग्रेस के संकटमोचक कहलाने वाले दिग्गज वोक्कालिगा नेता डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में बुधवार को निकाली गई विरोध रैली ने भारतीय जनता पार्टी की चिंता बढ़ा दी है। रैली को वोक्कालिगा समुदाय के संगठनों से मिले जबरदस्त समर्थन के बाद सतर्क प्रदेश नेतृत्व ने केंद्रीय नेतृत्व को इससे अवगत कराया है।

शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में आयोजित इस रैली में समुदाय के मठ प्रमुख नंजावधूत स्वामी ने केन्द्र सरकार व भाजपा पर वोक्कालिगा समुदाय को निशाना बनाने का आरोप लगाया। वोक्कालिगाओं ने इस रैली में भाजपा से राजनीतिक बदला लेने की चेतावनी भी दे डाली। एक तरफ भाजपा दक्षिण कर्नाटक के वोक्कालिगा बहुल बेल्ट में अपना जनाधार मजबूत करने की कोशिश कर रही है वहीं, डीके की गिरफ्तारी को लेकर भाजपा के प्रति उनकी नाराजगी बढ़ती जा रही है।

क्या आपने यह पढ़ा: https://www.patrika.com/bangalore-news/protest-in-bangalore-against-dk-shivkumar-s-arrest-5078278/

चुकानी पड़ सकती है भारी कीमत

वोक्कालिगा समुदाय के नेता डा. अश्वथनारायण को उपमुख्यमंत्री बनाया जाना लिंगायत हितैषी छवि से ऊपर उठ कर वोक्कालिगा समुदाय में अपनी पैठ बनाने की कवायद है। लेकिन, शिवकुमार की गिरफ्तारी के विरोध में वोक्कालिगा समुदाय ने जिस तरह एकजुट होकर विरोध किया है जिससे आने वाले उपचुनावों में पार्टी को भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

गत 3 सितंबर को हुई शिवकुमार की गिरफ्तारी के बाद से ही राज्य के विभिन्न हिस्सों में कांग्रेस व जद-एस के नेताओं ने सडक़ पर उतरकर प्रदर्शन किया है। बुधवार को वोक्कालिगा समुदाय के प्रमुख संगठनों के नेताओं, कन्नड़ रक्षण वेदिक के अध्यक्ष नारायण गौड़ा सहित कांग्रेस व जद-एस के वोक्कालिगा नेताओं के शिवकुमार का खुलकर समर्थन किया।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडुराव, पूर्व मंत्री जयचंद्रा सहित अन्य वोक्कालिगा नेताओं ने इस प्रकरण को जातीय रंग देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हालांकि, भाजपा के पास आर. अशोक, सीटी रवि, डा.अश्वथ नारायण, सांसद प्रताप सिम्हा, केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा, शोभा करंदलाजे जैसे कई प्रमुख वोक्कालिगा नेता हैं लेकिन, रैली में भाग लेने वाले नेताओं ने इसे केन्द्र सरकार के खिलाफ आंदोलन बनाने और भाजपा को वोक्कालिगा विरोधी ठहराने का भरसक प्रयास किया।

इस वजह से भाजपा की चिंता बढ़ी, केन्द्र को भेजी रिपोर्ट

भाजपा सरकार से वोक्कालिगा समुदाय पहले ही खफा

पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली जद-एस- कंग्रेस गठबंधन सरकार को गिराने के बाद सत्ता में आई भाजपा सरकार से वोक्कालिगा समुदाय पहले ही खफा था क्योंकि कुमारस्वामी भी इसी समुदाय से हैं। अब शिवकुमार की गिरफ्तारी को समुदाय के लोग बदले की राजनीति बताकर केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। इससे भाजपा की वोक्कालिगा बहुल क्षेत्र में पैठ बनाने की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। सदस्यता से अयोग्य ठहराए गए 17 विधायकों के त्यागपत्र देने से रिक्त हुई 17 विधानसभा सीटों के उपचुनाव निकट भविष्य में होने हैं और इनमें से कई सीटें वोक्कालिगा बहुल इलाकों में आती है। ऐसे में इस समुदाय के लोगों की नाराजगी भाजपा को आने वाले उपचुनावों में भारी पड़ सकती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned