मतदान महादान है, खुद करें और दूसरों से भी करवाएं

मतदान महादान है, खुद करें और दूसरों से भी करवाएं

Santosh Kumar Pandey | Updated: 03 Apr 2019, 10:19:14 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

राजस्थान पत्रिका के जागो जनमत अभियान के तहत राजस्थान पत्रिका के बेंगलूरु कार्यालय में जागो जनमत का आयोजन किया गया । इसमें विभिन्न संगठनों से जुड़ी महिलाओं ने भाग लिया और मतदान करने व करवाने का संकल्प लिया।

पत्रिका के जागो जनमत कार्यक्रम में महिलाओं ने लिया मतदान का संकल्प
बेंगलूरु. राजस्थान पत्रिका के जागो जनमत अभियान के तहत राजस्थान पत्रिका के बेंगलूरु कार्यालय में जागो जनमत का आयोजन किया गया । इसमें विभिन्न संगठनों से जुड़ी महिलाओं ने भाग लिया और मतदान करने व करवाने का संकल्प लिया। सर्वसमाज की महिलाओं ने कहा कि मतदान महादान है। स्वयं भी मतदान करें और दूसरों को भी मतदान के लिए प्रेरित करें। एक मत की कमी से अच्छा होनहार प्रत्याशी लोकसभा, विधानसभा में जाने से वंचित रह सकता है। महिलाओं ने बिना किसी दबाव के मतदान करने और मतदान प्रतिशत बढ़ाने पर जोर दिया।

इस अवसर पर अनुरूपा चंद्रशेखर ने कहा कि मतदान जरूरी है। ताकि देश को एक अच्छा नेता मिले जो सही नेतृत्व दे सके। अन्य देशों की तरह हमारा देश भी विकसित देशों की श्रेणी में आए। मतदान के लिए कोई भी व्यक्ति छुïिट्टयां बिताने बाहर नहीं जाए व छुट्टी का उपयोग मतदान के लिए ही करंे। उन्होंने कहा कि शिक्षित वर्ग छुट्टी का उपयोग बाहर घूमने में ज्यादा करता है, इसलिए शिक्षित वर्ग को चाहिए कि वह मतदान के दिन अपने शहर में रहें और मतदान करें।

शकुंतला अशोक छाजेड़ ने कहा कि मतदान जरूरी है। उन्होंने कहा कि एक-दो मत कम पडऩे से भी अच्छा नेता हमारे हाथ से फिसल सकता है। हमें एक वोट की भी कीमत समझनी होगी। सरकार को चाहिए कि वह मतदान के दिन दी जाने वाली छुट्टी को रद्द करे ताकि मत का प्रतिशत बढ़ सके। मतदान के दिन बाहर घूमने वालों पर तंज कसते हुए कहा कि हमें एक दिन घूमने-फिरने पर विराम लगाकर मतदान को वरीयता देनी होगी।

सामाजिक कार्यकर्ता शारदा चौधरी ने कहा कि मतदान के प्रति लोगों में जागृति तो आई है, लेकिन अपेक्षाकृत अब भी कम ही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान पत्रिका केे अभियान के बाद लोगों में जागृति आई है, मत प्रतिशत बढ़ा है। उन्होंने कहा कि मतदान भी एक प्रकार का दान है, इसमें सभी को अपनी भागीदारी निभानी चाहिए।

हम जैन संस्था की मंजू लुंकड़ ने कहा कि मतदान के दिन पुरुष वर्ग को सक्रिय रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पुरुषों को चाहिए कि वे मतदान के दिन महिलाओं को आगे रखें ताकि वे सभी को मतदान करा सकें। मतदान के दिन पुरुष वर्ग का सहयोग महिलाओं को पूरी तरह मिलना चाहिए।

पूर्व पार्षद कविता जैन ने कहा कि १८ वर्ष की उम्र से मतदान हमारा अधिकार हो जाता है। इसलिए सभी को मतदान जरूर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मतदान का प्रतिशत तो बढ़ रहा है। यदि सभी लोग मतदान करें तो अच्छे नेता का चुनाव हो सकता है। मतदान के प्रति बेरुखी अच्छे नेता का मार्ग रोक सकती है।

जीतो की महिला विंग की अध्यक्ष मधु डोसी का कहना है कि मतदान हमारा अधिकार है। इसका अधिकाधिक उपयोग हर नागरिक को करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चे से लेकर युवा तक हर व्यक्ति चाहता है कि देश में सही नेता का चुनाव हो। उन्होंने एक उदाहरण के माध्यम से कहा कि वे जब तक हम सभी एकजुट होकर मतदान नहीं करेंगे, तब तक सही नेता का चुनाव नहीं कर सकेंगे।

नीलम जैन ने कहा कि मतदान जरूरी ह। मतदान पर देश का भविष्य निर्भर करता है। अच्छे नेता को चुनेंंगे को देश विकास करेगा। देश आगे बढ़ेगा और महाशक्ति बनेगा। अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमारा देश मजबूत होगा।
भारती तातेड़ ने कहा कि अच्छे नेता व सरकार के चुनाव के लिए मतदान बहुत जरूरी है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि जिन लोगों ने पंजीयन नहीं करवाया है, वे करवा लें। मतदान के लिए सरकार ने कई पहचान पत्रों को मान्य कर रखा है।

भारती श्रीवास्तव ने कहा कि स्कूल, कॉलेज में भी बच्चों को मतदान के लिए प्रेरित किया जाने लगा है। इससे बच्चे भी जागृत हुए हैं। बदलाव चाहिए तो सभी को मतदान करना चाहिए। उन्होंने मतदाताओं को खुले मन से और निडर होकर बिना किसी दबाव के मतदान करने का आग्रह किया। उन्होंने भी कहा कि एक मत की कमी किसी अच्छे नेता के कदम रोक सकती है।

कार्यक्रम में रामनरेश गौतम व योगेश शर्मा ने व्यवस्था संभाली। संचालन संतोष पाण्डेय ने किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned