श्रवणबेलगोला में उतर आया पावापुरी का जल मंदिर

श्रवणबेलगोला में उतर आया पावापुरी का जल मंदिर

Ram Naresh Gautam | Publish: Nov, 10 2018 05:18:16 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 05:18:17 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

जल मंदिर के रूप में विशाल सरोवर के मध्य बने मनोहारी मंदिर को श्रवणबेलगोला में बहुत ही सुंदर तरीके से दर्शाया गया।

श्रवणबेलगोला. भगवान महावीर स्वामी निर्वाण उत्सव के अवसर पर चारुकीर्ति भट्टारक स्वामी के नेतृत्व एवं प्रज्ञासागर की प्रेरणा से श्रवणबेलगोला स्थित चामुंडराय मण्डप में दीपावली उत्सव मनाया गया।

भगवान महावीर स्वामी की निर्वाण भूमि पावापुरी तीर्थ क्षेत्र की कृत्रिम रचना की गई। जल मंदिर के रूप में विशाल सरोवर के मध्य बने मनोहारी मंदिर को श्रवणबेलगोला में बहुत ही सुंदर तरीके से दर्शाया गया।

कृत्रिम सरोवर मण्डप में ही बनाया गया, जिसमें कमल भी खिलखिला रहे थे। दृश्य ऐसा था मानो पावापुरी श्रवणबेलगोला में ही उतर आया हो।

इस पावापुरी में भगवान महावीर स्वामी की प्रतिमा एवं चरण चिह्न विराजमान कर आचार्य सुविधि सागर संसघ, आचार्य श्रेयसागर, अमरकीर्ति, अमोघकीर्ति सुयशगुप्त, चंद्रगुप्त सहित अनेक आर्यिका संघ व साधु-संतों के सान्निध्य में निर्वाण लाडू समर्पित किया गया।

साथ ही 64 दीपों से महाआरती की गई। चारुकीर्ति ने कहा कि जो भगवान महावीर स्वामी को पावापुरी में मिला था, वही प्रज्ञासागर को तपोभूमि से मिले।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned