scriptwhy diesel petrol rate not cut even cheaper crude oil | कच्चा तेल सस्ता फिर भी क्यों नहीं हो रही डीजल-पेट्रोल के खुदरा मूल्य में कटौती? ये हैं कारण... | Patrika News

कच्चा तेल सस्ता फिर भी क्यों नहीं हो रही डीजल-पेट्रोल के खुदरा मूल्य में कटौती? ये हैं कारण...

दो महीने से खुदरा दरों में बदलाव नहीं

 

बैंगलोर

Published: July 21, 2022 02:20:52 am

बेंगलूरु. अंतरराष्ट्रीय बाजर में कच्चे तेल के भाव crude oil price में गिरावट के बावजूद खुदरा बाजार में उपभोक्ताओं को राहत नहीं मिल रही है। तेल विपणन कंपनियों ने दो महीने से डीजल-पेट्रोल diesel petrol rate के खुदरा मूल्यों में कटौती नहीं की है जबकि इस दौरान क्रूड ऑयल के भाव में कमी आ चुकी है। अप्रेल के बाद पहली बार इंडियन बॉस्केट क्रूड ऑयल 100 डॉलर प्रति बैरल के भाव से नीचे आ चुका है मगर तेल विपणन कंपनियों ने खुदरा भाव में बदलाव नहीं किए हैं। बुधवार को सरकार ने विंडफॉल कर में भी कटौती की है मगर अभी ईंधनों के खुदरा भाव में कटौती की संभावना कम ही है। जानकारों का कहना है कि तेल कंपिनयां घाटे की भरपाई और रुपए की कमजोर स्थिति के कारण फिलहाल कटौती को लेकर देखो और इंतजार करो की नीति अपना रही हैं।
 petrol diesel
ethanol in petrol diesel petrol price today diesel price today
100 डॉलर के नीचे आया क्रूड
आंकड़ों के मुताबिक पिछले तीन महीने के दौरान इंडियन बॉस्केट क्रूड ऑयल का भाव पहली बार 14 जुलाई को गिरकर 100 डॉलर बैरल से नीचे आ गया। 14 जुलाई को क्रूड का भाव 99.76 डॉलर प्रति बैरल था। इससे पहले २५ अप्रेल को क्रूड का भाव 99.17 डॉलर प्रति बैरल था। इसके बाद यह 100 डॉलर से अधिक पर ही बना हुआ था। इस साल फरवरी के अंत में रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद पहली बार इंडियन क्रूड बॉस्केट ने 100 डॉलर प्रति बैरल के स्तर को छुआ था। जानकारों का कहना है कि वैश्विक मंदी की आशंका के कारण क्रूड के भाव में गिरावट आई है मगर बाजार अभी अस्थिर है और उतार-चढ़ाव जारी है।
मई में केंद्र ने दी थी राहत
गौरतलब है कि केंद्र सरकार के 21 मई को डीजल-पेट्रोल पर करों में क्रमश: 8 और 8 रुपए की कमी करने के कारण दोनों ईंधनों के भाव में आखिरी बार 22 मई को कमी आई थी, उसके बाद से भाव स्थिर बने हुए हैं। जानकारों का कहना है कि क्रूड के सस्ता होने के बावजूद तेल कंपनियों के लिए घाटे की भरपाई करना मुश्किल है। जब क्रूड महंगा और रुपया कमजोर था तब भी भाव में बदलाव नहीं हुआ था। क्रूड के सस्ता होने के बावजूद रुपए के कमजोर होने से कंपनियों को फायदा नहीं हो रहा।
मजबूत डॉलर से फायदा नहीं
21 मई को जब सरकार ने करों में कटौती की थी तब इंडियन बॉस्केट क्रूड ऑयल 109.55 डॉलर प्रति बैरल और डॉलर के मुकाबले रुपया 73-74 पर था मगर अब डॉलर के मुकाबले रुपया 80 के आसपास चल रहा है। 9 जून को इंडियन बॉस्केट क्रूड एक दशक के उच्च स्तर 121.28 डॉलर प्रति बैरल पर था, जो 9 मार्च 2012 के 125.13 डॉलर बैरल के बाद अधिकतम था। इससेे जून में मासिक औसत भाव 118.34 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जो अप्रेल 2012 के औसत 118.64 डॉलर बैरल के बाद अधिकतम था।
राज्य ने नहीं घटाया बिक्री कर
केंद्रीय कर में कटौती के बाद शहर में दोनों ईंधनों के खुदरा मूल्य में क्रमश: 6.90 रुपए और 9.15 रुपए प्रति लीटर की कमी आई थी। 22 मई को बेंगलूरु में पेट्रोल 111.09 रुपए से घटकर 101.94 रुपए, डीजल 94.79 रुपए से घटकर 87.89 रुपए लीटर हो गया था और यही भाव आज भी है। केंद्र सरकार के कर घटाने के बाद मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने राज्य में बिक्री कर घटाने के संकेत दिए थे मगर वित्तीय हालात को देखते हुए सरकार ने बिक्री कर में कटौती नहीं की। इससे पहले नवंबर २०२१ में राज्य सरकार ने पेट्रोल पर बिक्री कर 35 प्रतिशत से घटाकर 25.9 प्रतिशत और डीजल पर 24 प्रतिशत से 14.34 प्रतिशत कर दिया था। ईंधनों के आधार मूल्य पर बिक्री कर लगता है। राज्य सरकार को औसतन 1600 करोड़ रुपए की आमदनी हर महीने डीजल-पेट्रोल पर लगने वाले बिक्री कर से होती है। अप्रेल में 1602 करोड़, मई में 1635 और जून में 1689 करोड़ रुपए की आमदनी सरकार को हुई।
दैनिक बदलाव का फार्मूला ठंडे बस्ते में
डीजल और पेट्रोल के भाव को चरणबद्ध विनियमित किए जाने के कारण जून २०१७ से तेल कंपनियां हर दिन खुदरा मूल्यों में बदलाव करती हैं मगर फिलहाल यह फार्मूला ठंडे बस्ते में हैं। अप्रेल के दूसरे सप्ताह से तेल कंपनियों ने दैनिक भाव में बदलाव नहीं किए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवारIndependent Day पर देशभर के 1082 पुलिस जवानों को मिलेगा पदक, सबसे ज्यादा 125 जम्मू कश्मीर पुलिस कोहरियाणा में निकली 6600 फीट लंबी तिरंगा यात्रा, मनाया जा रहा आजादी के अमृत महोत्सव का जश्नIndependence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगOne MLA-One Pension: कैप्टन समेत पंजाब के इन बड़े नेताओं को लगेगा वित्तीय झटकाइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.