बिहार में निर्माणाधीन है दुनिया का सबसे बड़ा राम मंदिर : किशोर कुणाल

बिहार में निर्माणाधीन है दुनिया का सबसे बड़ा राम मंदिर : किशोर कुणाल

Shankar Sharma | Publish: Sep, 09 2018 10:08:08 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

बिहार कैडर के सेवानिवृत्त आइपीएस अधिकारी और बिहार राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष आचार्य किशोर कुणाल का शनिवार को आरटीनगर स्थित बिहार भवन में राजेन्द्र बाबू मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में अभिनंदन किया गया।

बेंगलूरु. बिहार कैडर के सेवानिवृत्त आइपीएस अधिकारी और बिहार राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष आचार्य किशोर कुणाल का शनिवार को आरटीनगर स्थित बिहार भवन में राजेन्द्र बाबू मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में अभिनंदन किया गया।


पटना के प्रसिद्ध महावीर मन्दिर न्यास के सचिव किशोर कुणाल ने कहा कि बिहार और कर्नाटक के बीच सदियों का प्रगाढ संबंध रहा है। दोनों राज्य एक दूसरे से सांस्कृतिक सेतु से जुड़े हैं और मौजूदा समय में बेंगलूरु का यह बिहार भवन उस सांस्कृतिक संबंध का जीवंत उदाहरण है। उन्होंने बताया कि पटना के महावीर मंदिर में लड्डू प्रसाद बनाने के लिए घी की आपूर्ति कर्नाटक से होती है।


उन्होंने बताया कि बिहार महावीर मंदिर ट्रस्ट (बीएमएमटी) बिहार के पूर्वी चम्पारण जिले में विश्व के सबसे बड़े राम मंदिर निर्माण करा रहा है। कंबोडिया में निर्मित १२वीं सदी के अंगकोर वाट मंदिर की तर्ज पर पूर्वी चम्पारण में उस मंदिर का निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में यह मंदिर पूरी दुनिया में फैले हिन्दू श्रद्धालुओं के आकर्षण का प्रमुख केन्द्र बनेगा।

कार्यक्रम में कर्नाटक कैडर के वरिष्ठ आइएएस राकेश सिंह सहित बिहार विधान परिषद सदस्य के.के. सिंह अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सी.के. करुण ने स्वागत किया। इस अवसर पर सिद्धार्थ सांस्कृतिक परिषद के अध्यक्ष उदय सिंह, सचिव अरुण झा, रामकिंकर सिंह, राजेश्वर सिंह, बिजय शंकर सिंह, देवेश चौबे, बिनय कुमार आदि उपस्थित थे।

हे राम! मैं तुम्हे भूलूं नहीं...
बेंगलूरु. सीरवी समाज कर्नाटक ट्रस्ट की ओर से बलेपेट स्थित सीरवी समाज भवन में संत अचलाराम के चातुर्मास कार्यक्रम के तहत शनिवार को गुरु स्मृति कार्यक्रम संपन्न हुआ।


समाज की आराध्य आईमाता के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन और स्तुति के साथ विशेष पूजा की गई। अध्यक्ष हेमाराम पंवार ने स्वागत किया। संत अचलाराम ने हे ! राम मैं तुम्हे भूलूं नहीं...की सुंदर स्तुति व प्रार्थना का संगीतमय वर्णन कराया। उन्होंने कहा कि हमारे भारत देश की संस्कृति अति उत्कृष्ट संकृति है। यहां छोटे बड़ों का आदर व सम्मान करते हैं। भजन मंडलियों ने भजन प्रस्तुति दी।


कार्यक्रम में वीरमराम सोलंकी, हिम्मताराम पंवार, कालूराम, वालाराम काग, जगदीश मुलेवा, तेजाराम राठौड़ सहित अनेक गणमान्य मौजूद रहे। पुजारी अन्नाराम महाराज ने स्तुति प्रस्तुत की। समाज के सचिव ओमप्रकाश बर्फा ने बताया कि ११ सितम्बर को फ्रीडर्म पार्क में ३९वां वार्षिक सम्मेलन होगा।

Ad Block is Banned