तीर्थंकर प्रभु की आराधना से कर्मों की निर्जरा होती है-साध्वी डॉ.कुमुदलता

मुनिसुव्रतस्वामी कल्याणकारी जाप अनुष्ठान सम्पन्न

बेंगलूरु. अनुष्ठान आराधिका साध्वी कुमुदलता आदि ठाणा 4 के सान्निध्य में बसवनगुड़ी जैन संघ के तत्वावधान में बीसवें तीर्थंकर मुनिसुव्रतस्वामी कल्याणकारी जाप अनुष्ठान का आयोजन हुआ। इसमें बैंगलोर के अनेक श्रद्धालुओं ने भाग लिया। साध्वी के मंगलाचरण के बाद बसवनगुडी जैन संघ के पदाधिकारियों एवं विभिन्न सदस्यों ने विधिवत कलश की स्थापना की। साध्वी कुमुदलताजी ने जाप अनुष्ठान का विधिवत संचालन करते हुए कहा कि तीर्थंकर प्रभु की आराधना स्तुति करने से हमारे कर्मों की निर्जरा होती है। हमारे जीवन में सुख समृद्धि व यश कीर्ति की प्राप्ति होती है। नेमीचंद दलाल ने बताया कि रविवार को साध्वी मंडल का विहार मूथा निवास, मावल्ली की ओर होगा। विहार के बाद मावल्ली जैन संघ के तत्वावधान में साध्वी मंडल के सान्निध्य में जाप अनुष्ठान का आयोजन होगा। 24 नवम्बर को दोड्डनिकुंदी गोशाला में गुरु केवल स्मारक का उद्घाटन एवं पैसठिया छंद जाप अनुष्ठान साध्वी वृंद के सान्निध्य में होगा। शनिवार के आयोजन के अवसर पर शांतिलाल सांड, सम्पतराज रांका, गौतम धारीवाल, नेमीचंद रांका, सुरेश छल्लाणी, शांतिलाल रांका, अशोक रांका, भंवरलाल सकलेचा, पारसमल बोहरा, रमेश सिसोदिया उपस्थित थे। इस अवसर पर अबलाश्रम के मंत्री का अभिनंदन किया गया। संचालन रोशनलाल बाफऩा ने किया। आभार नवीन रांका ने जताया।

Yogesh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned