युवक परिषद का अधिवेशन शुरू

आचार्य महाश्रमण के सानिध्य में अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के 53 वें राष्ट्रीय अधिवेशन का शुभारंभ हुआ।

बेंगलूरु. आचार्य महाश्रमण के सानिध्य में अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के 53 वें राष्ट्रीय अधिवेशन का शुभारंभ हुआ।

आचार्य ने युवाओं को प्रेरणा देते हुए रायपसेणीय आगम के क्रम को आगे बढ़ाया और केशी कुमारश्रमण और राजा परदेसी के व्याख्यान पर प्रवचन दिया। साध्वीवर्या सम्बद्धयशा ने सम्यकत्व की व्याख्या की।

प्रवचन में अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के अधिवेशन का शुभारंभ राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कटारिया की अध्यक्षता में हुआ। आचार्य महाश्रमण के सान्निध्य में "युवा गौरव" अलंकरण महावीर रांका-गंगाशहर, एकलव्य भंसाली-जोधपुर, "आचार्य महाप्रज्ञ प्रतिभा पुरस्कार" रमेश सुतरिया-मुम्बई, "आचार्य महाश्रमण युवा व्यक्तित्व पुरस्कार" अरविन्द मांडोत - बेंगलूरु को प्रदान किया। इन प्रशस्ति पत्रों का वाचन मुकेश गुगलिया, पंकज डागा और रमेश डागा ने किया। साध्वी नगीनाश्री की पुस्तक "आत्मदर्पण " का लोकार्पण जैन विश्व भारती द्वारा पूर्व अध्यक्ष रमेश बोहरा, व्यवस्था समिति अध्यक्ष मूलचंद नाहर, महा मंत्री दीप चंद नाहर द्वारा हुआ। इस अवसर पर युवा दृष्टि के आचार्य महाप्रज्ञ पर आधारित विशेषांक का लोकार्पण अभातेयुप टीम द्वारा किया गया।

आचार्य महाश्रमण चतुर्मास प्रवास व्यवस्था की तरफ से कृतज्ञता ज्ञापन क्रम में महासभा उपाध्यक्ष कन्हैयालाल गिडिय़ा, गुलाब बांठिया, वीणा बैद ने भावाभिव्यक्ति दी।

एडीजीपी शरतचंद्र ने आचार्य के दर्शन कर आशीर्वाद लिया। समिति की ओर से उपाध्यक्ष बाबूलाल पोरवाल , तेजराज शर्मा ने मोमेंटो से सम्मान किया।

शुक्रवार को आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर, आध्यात्मिक गुरु अक्षरधाम स्वामीनारायण मंदिर के स्वामी ज्ञानवत्सल ने आचार्य से मुलाकात की। धर्म गुरुओं में आध्यात्मिक चर्चा हुई।

Santosh kumar Pandey
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned