सर्पदंश के शिकार दो मासूमों को लेकर भोपे के पास भटकते रहे परिजन, अस्पताल पहुंचे तब टूट गई सांसें

सर्पदंश के शिकार दो मासूमों को लेकर भोपे के पास भटकते रहे परिजन, अस्पताल पहुंचे तब टूट गई सांसें

abdul bari | Publish: Jul, 01 2019 07:00:00 AM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

( snake bite death in banswara ) दोनों हैं अलग-अलग मामले, बच्चों को चिकित्सकों ने किया मृत घोषित, पहले पहुंचते तो बच सकती थी जान

 

बांसवाड़ा.
शिक्षा और जागरूकता का अभाव रह रह का जिले में देखने को मिल जाता है। तामाम घटनाएं होने के बाद भी लोग जागरूक नहीं होते। आमजन में इसी जागरूकता के अभाव ने रविवार शाम दो बच्चों को मौत ( Snake bite death in banswara ) के घाट उतार दिया।

मामला यह था कि चौबीसों का पाड़ला और ठीकरिया के ओटियापाड गांव में देखने को मिला। इन दोनों ही गांवों में बच्चों को सर्पदंश के बाद परिजन उनके बच्चों को अस्पताल ले जाने की बजाय भोपे ( bhopa ) के पास ले गए और इस चक्कर में ढाई घंटे बिगाड़ दिए।

5 मिनट के अंतराल में बच्चे पहुंचे अस्पताल

दोनों ही बच्चों को शाम तकरीबन 6 बजे उनके घरों में सांपों ने डसा और इसके बाद ठीकरिया के ओटियापाड निवासी परिजन बच्चे को भोपे के पास भापोर ले गए। और चौबीसों का पाडला निवासी परिजन उनके बच्चे को पास के ही गांव में भोपे के पास ले गए। यहां जगह बच्चों की तबीयत बिगडऩे पर परिजन अस्पताल की ओर दौड़े लेकिन तब तक ढाई घंटे बीत चुके थे। दोनों ही बच्चों के परिजन उन्हें लेकर पांच मिनट के अंतराल में साढ़े आठ बजे के आसपास अस्पताल पहुंचे।

अस्पताल पहुुंचने से पहले बेटे की मौत
ठीकरिया के ओटियापाड निवासी 7 वर्षीय संदीप पुत्र हरीश शाम को तकरीबन 6 बजे घर पर खेल रहा था। इस दौरान ही उसे सांप ने काट लिया। जिसके बाद परिजन अस्पताल ले जाने की बजाय भापोर भोपे के पास ले गए और ढाई घंटे बर्बाद कर दिए। झाड़ फूंक के दौरान जब बच्चे की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ तो परिजन अस्पताल की ओर दौड़े। लेकिन रास्ते में ही बच्चे ने दमतोड़ दिया था।

पहले भोपे के पास ले जाने की बात बताने वाले परिजन बाद में भोपे के पास न जाने की बात कहने लगे। लेकिन सांप काटने के बाद ढाई घंटे वो कहां रहे सवाल का सही जवाब न दे सके।

 

मां की गोद में तड़तड़प कर तोड़ा दम
भोपे के फेर में चौबीसा का पाडला निवासी 5 वर्षीय हर्षिता पुत्री कैलाश बारिया ने भी दम तोड़ दिया। हर्षिता भी शाम को घर में रसोई के पास खेल रही थी और घर के बाहर खेतों की ओर जैसे ही गई सांप ने काट लिया। इसके बाद माता पिता उसे अस्पताल ले जाने की बजाय भोपे के पास ले गए। जब झाडफ़ूंक में बच्ची की हालत में सुधार नहीं हुआ तो परिजन उसे तलवाड़ा सीएचसी ले गए जहां से उसे एमजी अस्पताल के लिए रैफर कर दिया गया और उपचार के दौरान हर्षिता ने उसकी मां की गोद में दम तोड़ दिया।

 

एक दिन पहले हादसे से नहीं लिया सबक
ऐसा ही मामला गनोड़ा क्षेत्र में के सवा पाड़ा गांव में शनिवार सुबह देखने को मिला था। जब सांप काटने के बाद परिजन उसे गनोड़ा पीएचसी ले जाने की बजाया भोपे के पास ले गए थे। जहां हालत में सुधार न होने पर परिजन उसे अस्पताल ले गए। लेकिन उसने वहां दम तोड़ दिया।

 

यह खबरें भी पढ़ें..

रिश्वत लेते महिला सुपरवाईजर गिरफ्तार, एसीबी टीम को देखते ही छूटे पसीने, पानी तक नहीं पिया


प्रदेश शर्मसार.. नाबालिग को जबरन नशीला जूस पिलाकर किया गैंगरेप, बदहवास हालत में छोड़ा

 

देर रात होटल में रूकने आए युवक-युवती, सुबह मिले दोनों के शव

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned