बांसवाड़ा : गुजरात के कत्लखाने में गायों को ले जाते पकड़े आरोपियों को कड़ी कैद, जुर्माना भी ठोका

बांसवाड़ा : गुजरात के कत्लखाने में गायों को ले जाते पकड़े आरोपियों को कड़ी कैद, जुर्माना भी ठोका

deendayal sharma | Publish: Mar, 30 2019 04:56:29 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा. करीब 12 साल पहले निर्दयता से गायों को ट्रक में भरकर गुजरात ले जाते पकड़े गए दो आरोपियों को अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश ने दो साल के कठोर कारावास और जुर्माने की सजा सुनाई। आरोपी मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के मुल्तानपुरा निवासी फारूख पुत्र हुसैन खां एवं मुख्तियार पुत्र नवीनूर हैं। ठूंसकर भरने से तब ट्रक में दो गायों की मौत भी हो गई थी। प्रकरण के अनुसार गत 16 दिसंबर 2006 को सहभागिता कार्यक्रम में हिस्सा लेने रूपजी का खेड़ा गांव गए खमेरा थाने का एक एएसआई को थाना प्रभारी से सूचना मिली कि नरवाली की तरफ एक ट्रक गौवंश से भरा लाया जा रहा है, जिसे कुछ लोग गुजरात ले जा रहे हैं।

ट्रक के आगे एक जीप भी है, जिससे पायलेटिंग की जा रही है। इस पर पुलिस दल ने वहीं गांव में नाकाबंदी की। पुलिस ने पहले जीप को रुकवाया, लेकिन चालक पुलिस को अनदेखा कर भाग निकला। इसके बाद पुलिस ने ट्रक को रोका। फिर जीप का पीछा कर उसे भी पकड़ लिया गया। जीप में फजलुर्रमान व अब्दुल, फारूख बैठा हुआ था, जिन्होंने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उन्होंने गौवंश को चित्तौडगढ़़ से भरा है और वह उसको गुजरात के झालोद लेकर जा रहे हैं। पुलिस ने जब ट्रक खुलवाया तो उसके दो पाट किए हुए थे, जिनमें उपर-नीचे गायें क्रूरता से भरी हुई थी। इस वजह से दो गायों की तो मौत हो चुकी थी। पुलिस ने सभी गायों को नीचे उतरवाया और ट्रक में सवार मारूख, उस्मान, मुख्तियार नूर को गिरफ्तार कर अग्रिम कार्रवाई की।

इनके हुए निर्णय
पत्रावलियों के अनुसार प्रकरण में मुख्तियार पुत्र मोहम्मद का 18 मई 2006 को, फजुलर्रहमान का 5 जुलाई 2008 को उम्मान का 16 जनवरी 2012 को और फारूख का निर्णय 18 मार्च 2016 को हो गया। निर्णय में केवल फारूख एवं मुख्तीयार ही शेष बचे थे। कोर्ट ने इन दोनों आरोपियों को राजस्थान गोवंशीय पशु अधिनियम 1995 की धारा (8)2 के तहत दो-दो वर्ष कड़ी कैद और एक-एक हजार जुृर्माना सुनाया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned