बांसवाड़ा : तीन थाने की पुलिस के नाक में किया दम, पथराव कर एएसआई को जख्मी किया, आखिर पकड़ा गया आरोपी

बांसवाड़ा : तीन थाने की पुलिस के नाक में किया दम, पथराव कर एएसआई को जख्मी किया, आखिर पकड़ा गया आरोपी

deendayal sharma | Publish: Apr, 17 2019 10:00:07 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

अपने थाना क्षेत्र में बलात्कार के मामले में मुश्किल से पकड़ में आया। पेश करने दूसरे थाना क्षेत्र में जज के निवास पर ले गए तो मौका पाकर भागा, फिर जंगल के रास्ते गुजरात भागने की कोशिश में तीसरे थाना इलाके में निगाह में आते ही पथराव कर एएसआई को घायल किया। जिले में तीन थाना क्षेत्र की पुलिस के नाक में दम करने के बाद आखिर आरोपी बुधवार को पुलिस की गिरफ्त में आया।

बांसवाड़ा. अपने थाना क्षेत्र में बलात्कार के मामले में मुश्किल से पकड़ में आया। पेश करने दूसरे थाना क्षेत्र में जज के निवास पर ले गए तो मौका पाकर भागा, फिर जंगल के रास्ते गुजरात भागने की कोशिश में तीसरे थाना इलाके में निगाह में आते ही पथराव कर एएसआई को घायल किया। जिले में तीन थाना क्षेत्र की पुलिस के नाक में दम करने के बाद आखिर आरोपी बुधवार को पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया।

शातिर आरोपी की हरकतों से एक एएसआई और एक कांस्टेबल निलंबित होने पर तीनों थाने की पुलिस उसकी सरगर्मी से तलाश में रही। अंतत: पुलिस की टीम ने तीसरे दिन नाहरपुरा के जंगल क्षेत्र से घेराबंदी कर उसे दबोचा। अब सल्लोपाट थाने में बलात्कार के मामले के अलावा उसके खिलाफ हिरासत से भागने का कलिंजरा थाने में और एएसआई पर पथराव कर राजकार्य में बाधा पहुंचाने पर आनंदपुरी थाने में भी केस बन गया है। फिलहाल आरोपी पुलिस हिरासत से भागने के केस में कलिंजरा पुलिस की हिरासत में है।

पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम ने बताया कि बलात्कार के आरोप में पकड़े गए जालमपुरा निवासी गटू पुत्र भूरजी कटारा को सल्लोपाट थाने के एएसआई नरपत सिंह और कांस्टेबल प्रदीप 15 अप्रेल को बागीदौरा में जज के समक्ष पेश करने के लिए गए थे। वहीं जज के निवास पर आरोपी गटू दूसरी मंजिल से कूदकर फरार हो गया था। इस पर बागीदौरा डीएसपी गोपीचंद मीणा, एसआई कपिल पाटीदार, कलिंजरा सीआई प्रदीप सहित अन्य पुलिस अधिकारियों की टीम बनाई गई, जो आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगी।
जीजा के संपर्क में था आरोपी
आरोपी गटू गिरफ्तारी के समय से ही अपने जीजा नवागांव निवासी लालू का नाम ले रहा था। वह उसे जमानत के लिए बुलाने को कह रहा था। इसके मद्देनजर लालू के मोबाइल पर गटू का कॉल आने की संभावना पर पुलिस ने उसके नंबर की निगरानी शुरू की। इसी दरम्यान लालू ने बताया कि गटू राजकोट गुजरात में रामभाई भरवार के ट्रेक्टर चलाने का काम करता है। पुलिस ने राजकोट के भरवार को मोबाइल पर गटू के प्रकरण की जानकारी दी और हालात के बारे में बताया। साथ ही आरोपी की कोई सूचना आने पर तुरंत बताने के लिए कहा।
राजकोट से मिली लीड, फिर घेराबंदी में एएसआई पर किया पथराव
एसपी ने बताया कि 16 अप्रेल की सुबह राजकोट के रामभाई ने फोन कर बताया अज्ञात नंबरों से गटू का फोन आया है और राजकोट आने का बोला है। साथ ही रुपए नहीं होना बताया है। इस पर साइबर सेल के प्रवीण सिंह ने नंबर की लोकेशन एवं आईडी से पता किया तो सामने आया कि गटू गांव जालिमपुरा के कमजी पुत्र हकरू कटारा के नाम की सिम का उपयोग कर रहा है और वह जालिमपुरा के जंगल में ही है। इस पर टीम ने जालिमपुरा जंगल की घेराबंदी की। बुधवार को आरोपी गटू भागते समय एएसआई हरीशचन्द्र के सामने ही आ गया। उसने एएसआई पर पथराव कर भागने का प्रयास किया। इस वारदात में एएसआई की कमर और घुटने में चोट आई और फ्रेक्चर हो गया। इसके बावजूद 59वर्षीय एएसआई हरीशचंद्र ने पीछा नहीं छोड़ा और कुछ दूर भागने के बाद उसे दबोच लिया।

जज के आवास से बलात्कार का आरोपी भागने के केस पर गिरी गाज, लापरवाह एएसआई और कांस्टेबल निलंबित
बीहड़ का उठाया फायदा
एसआई कपिल पाटीदार ने बताया कि आरोपी अनास नदी के बीहड़ क्षेत्र का फायदा उठा रहा था। गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने रात को भी आसपास कई जगह डेेरे डाले। सुबह के समय आरोपी कुछ पुलिसकर्मियों को दिखाई पड़ा। पुलिस की जानकारी में आया कि आरोपी गटू की नाहरपुरा कमली भुआ रहती है। संभवत वह वहां जा सकता है। इस पर पुलिस ने इन्हीं इरादों से आरोपी का पीछा करते हुए जंगल में बढ़ी, जहां पुलिस को सफलता मिली।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned