बांसवाड़ा में कोर्ट-कलक्टरी से लेकर विभागों तक फैला कोरोना का खौफ, बाजार में मास्क और सेनेटाइजर की कमी

corona virus news in banswara : कलक्टरी के दो गेट बंद, भीड़भाड़ घटाने की कवायद

By: deendayal sharma

Published: 19 Mar 2020, 12:39 PM IST

बांसवाड़ा. कोरोना को लेकर बांसवाड़ा जिले में अब तक कोई संदिग्ध सामने नहीं आया है, लेकिन इसका खौफ कोर्ट-कलक्टरी से लेकर थानों और विभिन्न विभागों में दिखलाई देने लगा है। एडवायजरी और राजस्थान हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल की ओर से जारी दिशा-निर्देश पर एहतियात पर जोर बढ़ गया है। इसके चलते बुधवार को कलक्टरी के गेट नंबर एक और दो बंद कर दिए गए, वहीं पीछे के तीन नंबर से ही आवाजाही हुई। इस बीच, अदालतों में भी हाईकोर्ट के निर्देशानुसार ही कामकाज हुआ, वहीं भीड़भाड़ घटाने की कवायद हुई। कोर्ट परिसर हो या कलेक्टरी व अन्य विभागों के दफ्तर, हर कोई मास्क और सेनेटाइजेशन पर ध्यान देने लगा। इस बीच, बाजार में मास्क के साथ सेनेटाइजर की भी कमी देखी गई।

जमानती नहीं मिले तो जुआरियों को लाए, कोट ने बुलाने को कहकर टाला : - यहां शाम को एजेएम कोर्ट में दानपुर से एक साथ 39 जुआरी पेश करने लाने पर कोर्ट ने उन्हें बाहर से ही टाल दिया। एसपी केसरसिंह शेखावत ने दानपुर थानाधिकारी सज्जनसिंह के हवाले से बताया कि दानपुर कस्बे में 13 आरपीजीओ के तहत गिरफ्तार ज्यादातर आरोपी मध्यप्रदेश से होने से उनके जमानतदार नहीं आ पाए। इसके चलते उन्हें कोर्ट में पेश करने के सिवा कोई चारा नहीं था। बड़ी संख्या में लोग यहां लाने पर हाईकोर्ट के निर्देशानुसार टाल दिया गया। जमानती बुलवाकर थाने में ही जमानत पर रिहा करने के आदेश के साथ इस्तगासा बाद में पेश करने की बात हुई, तो सभी को वापस ले जाना पड़ा।

थानों के बाहर सीओ के निर्देश, जरूरी काम हो तो ही आओ : - इस बीच, कोतवाली, सदर सहित बांसवाड़ा वृत के थानों के बाहर पर्चे चस्पा किए गए। इसमें कोरोना वायरस से बचाव और एहतियात के मद्देनजर डीएसपी की तरफ से अपील की गई कि लोग जरूरी नहीं है, तो थाना क्षेत्र में नहीं आएं। इधर, अन्य विभागों में भी इसी तरह के बंदोबस्त देखे गए, जहां कर्मचारी मास्क लगाए रुटीन कामकाज में लगे। हालांकि ज्यादातर जगह सेनेटाइजर नहीं दिखे।

ब्लैक के संदेह पर टीम ने ली मेडिकल स्टोर्स की टोह : - दोपहर बाद रसद और माप-तौल विभाग की साझा टीम ने शहर में मेडिकल स्टोर्स की टोह ली। टीम के सदस्यों ने दूर रहकर लोगों को मास्क और सेनेटाइजर के खरीदार बनाकर भेजा। यहां कस्टम रोड के किनारे अशोक मेडिकल पर मास्क और सेनेटाइजर बिक्री के लिए उपलब्ध ही नहीं हुए। रेट एमआरपी के अनुसार ही बताई गई। इसके बाद टीम प्रवर्तन निरीक्षक सोहनसिंह चौहान ने और विधिक माप-तौल अशोक मित्तल ने पुराना बस स्टैंड पर संदीप मेडिकल और एमजी अस्पताल के सामने आनंद मेडिकल पर भी पूछताछ की। चौहान ने बताया कि मास्क और सेनेटाइजर आवश्यक वस्तु अधिनियम के दायरे में आने के मद्देनजर ब्लैक में बिकने की आशंका पर पड़ताल की गई, लेकिन तीनों दुकानों पर ऐसा कुछ नहीं मिला।

Corona virus corona virus in india
Show More
deendayal sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned