बांसवाड़ा : आयुर्वेद चिकित्सक ने किया एलोपैथी से उपचार, सात साल के बच्चे की मौत पर मचा बवाल

deendayal sharma

Updated: 20 Sep 2019, 11:37:39 AM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा/गनोड़ा. बांसवाड़ा जिले के गनोड़ा कस्बे में आयुर्वेद चिकित्सक के एलोपैथी उपचार के बाद सात साल के एक मासूम की मौत पर परिजनों ने बवाल कर दिया। ग्रामीण शव लेकर चिकित्सक के घर पहुंच गए और काफी देर तक विरोध किया। इसके बाद ग्रामीणों की समझाइश और आर्थिक मदद के आश्वासन के बाद मामला शांत हुआ।

वाकया कस्बे के नए बस स्टेण्ड क्षेत्र में सरकारी आयुर्वेदिक चिकित्सक विजयलाल जैन के घर पर हुआ। यहां बोरदा निवासी सात वर्षीय पीयूष राणा पुत्र प्रकाश राणा का दो दिन से उपचार चल रहा था। गुरुवार को दोपहर में पीयूष को फि र से परिजन जैन के यहां उपचार करवाने के लिए आए। जैन ने पीयूष को इंजेक्शन लगाया तो वह बेहोश हो गया। इस पर चिकित्सक जैन ने दवाई का असर बताते हुए यूं ही बेहोश होने का हवाला देकर घर ले जाने को कह दिया, लेकिन पीयूष के बिल्कुल नहीं बोलने से परिजन घबरा गए।

बांसवाड़ा : महिला समूह की दबंगई, लोन की किस्त नहीं भरी तो प्रताडि़त कर घर से भगाया फिर उतार ले गए घर से पतरे

बाद में वे उसे गनोड़ा सामुदायिक स्वास्थ केंद्र ले गए, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस पर परिजन शव ऑटो में जैन घर ले गए। कुछ देर अफ रा तफ री का माहौल रहा। परिजनों को आर्थिक मदद के वादे पर परिजन शव घर ले गए। गौरतलब है कि आयुर्वेद चिकित्सक एलोपैथी से उपचार नहीं कर सकते। इसके बावजूद गनोड़ा समेत जिलेभर में कई जगह आयुर्वेद से जुड़े चिकित्सक धड़ल्ले से उपचार कर रहे हैं और केस बिगडऩे पर बीमार सरकारी अस्पतालों में पहुंच रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned